गदपुरी टोल प्लाजा पर हुई महापंचायत, धरना खत्म करने को लेकर हुआ बड़ा फैसला

Edited By Vivek Rai, Updated: 27 Jun, 2022 03:04 PM

mahapanchayat held at gadpuri toll plaza a big decision is taken

पंचायत में अपना फैसला जाहिर करते हुए एनएचएआइ की शर्तों को मानने से इंकार कर दिया गया। संयोजक रतन सिंह सौरोत ने फैसले के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि टोल चलाने से पहले एनएचएआइ तथा क्यूब कंपनी को पहले गदपुरी ग्राम पंचायत की अवैध कब्जा की हुई...

फरीदाबाद(अनिल): दिल्ली-आगरा राजमार्ग पर फरीदाबाद और पलवल के बीच लगाए जा रहे गदपुरी टोल को हटाने की मांग को लेकर सात घंटे चली महापंचायत बिना किसी नतीजे के समाप्त हो गई। महापंचायत पहले किए गए फैसले का पालन करते हुए आगे भी धरना जारी रखेगी। इस दौरान यह भी कहा गया कि यदि जिला प्रशासन व एनएचएआई ने टोल को जबरदस्ती चलाने का यदि प्रयास किया, तो उस दौरान होने वाली किसी भी अप्रिय घटना के लिए सरकार व प्रशासन पूरी तरह से जिम्मेदार होगा। आज हुई महापंचायत की अध्यक्षता करतार सिंह जेलदार ने की।

पंचायत में दोहराई गई पुरानी मांगें

पंचायत में अपना फैसला जाहिर करते हुए एनएचएआइ की शर्तों को मानने से इंकार कर दिया गया। संयोजक रतन सिंह सौरोत ने फैसले के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि टोल चलाने से पहले एनएचएआइ तथा क्यूब कंपनी को पहले गदपुरी ग्राम पंचायत की अवैध कब्जा की हुई जमीन को खाली करना होगा। इसके अलावा अधिग्रहण करने के बाद पहले मुआवजा देना होगा। साथ ही दिल्ली-आगरा राजमार्ग पर सिक्स लेन निर्माण की सारी शर्तों को पूरा करना होगा। इसके लिए सर्वप्रथम बल्लभगढ़ में रेलवे लाइन के ऊपर बने पुल को सिक्स लेन बनाना, पलवल में चार लेन बनाए गए एलिवेटेड पुल का निर्माण सिक्स लेन करना, बघौला, मुंडकटी, औरंगाबाद, बंचारी में पुल का निर्माण करने के अलावा आरोही स्कूल के बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए अंडर पास या फिर पुल निर्माण करना होगा। उसके बाद ही टोल चलाने की अनुमति दी जाएगी।

पूर्व मंत्री करण दलाल की दो टूक, धरने पर बैठे लोगों से पंगा ना ले सरकार

महापंचायत को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री करण सिंह दलाल ने कहा कि सरकार के मंत्री, विधायक व अधिकारी, टोल चलाने वाली कंपनी व रिलायंस के हाथों की कठपुतली बने हुए हैं। बिना जमीन अधिग्रहण किए जिस तरह से ग्राम पंचायत गदपुरी की जमीन पर अवैध कब्जा किया गया है, उसे हटवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार व प्रशासन इस इलाके की जनता को कमजोर समझने की भूल न करें। यदि प्रशासन ने सरकार व कंपनी के दबाव में टोल चलाने का प्रयास किया तो उसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। उन्होंने पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों को चेतावनी दी कि यदि टोल पर धरने पर बैठे लोगों को धमकाने व डराने का प्रयास किया तो उसका भी जवाब दिया जाएगा। करण दलाल ने कहा कि अपनी मांगों को लेकर पूरा इलाका एक साथ है और यह धरना लगातार जारी रहेगा।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भीबस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!