पूर्व मंत्री संपत सिंह की कल होगी कांग्रेस में वापसी, आदमपुर से उपचुनाव लड़ने का भी कर सकते हैं ऐलान

Edited By Gourav Chouhan, Updated: 07 Aug, 2022 02:59 PM

former minister of haryana will join congress tomorrow in chandigarh

संपत सिंह 8 अगस्त को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष उदय भान व पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में चंडीगढ़ में अपने साथियों के साथ कांग्रेस में शामिल होने जा रहे हैं।

हिसार(विनोद): किसानों के हितों के लिए भाजपा से किनारा करने वाले पूर्व मंत्री संपत सिंह ने कांग्रेस का दामन थामने की पूरी तैयारी कर ली है। उन्होंने हिसार के आजाद नगर में नलवा हलके के कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करने के बाद ऐलान किया कि वे कांग्रेस में शामिल होंगे। संपत सिंह 8 अगस्त को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष उदय भान व पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में चंडीगढ़ में अपने साथियों के साथ कांग्रेस में शामिल होने जा रहे हैं।

 

बोले- आदमपुर में बीजेपी को हराने के लिए लगाऊंगा पूरा जोर

 

आदमपुर उपचुनाव के लिए कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ने के सवाल पर पूर्व मंत्री ने कहा कि इसका फैसला पार्टी आलाकमान का होगा। उन्होंने कहा कि चाहे वे खुद चुनाव लड़ें या कोई और चुनाव लड़े, लेकिन बीजेपी को हराने के लिए वे अपना पूरा दम लगा दैंगे। संपत सिंह ने कहा कि आदमपुर के पूर्व विधायक कुलदीप बिश्नोई कांग्रेस में रहकर भाजपा के लिए काम रहे थे। यही कारण है कि आदमपुर में विकास नहीं हुआ है। आदमपुर की जनता खुद को ठगा हुआ महसूस कर रही है। उन्होने कहा कि प्रदेश में बढ़ रही बेरोजगारी, बुढ़ापा पेंशन में कटौती और किसानों की समस्याओं पर आदमपुर में भी उपचुनाव लड़ेंगे। वहीं बिश्नोई द्वारा हुड्डा को आदमपुर से चुनाव लड़ने की चुनौती देने पर संपत सिंह ने कहा कि कुलदीप की यह बात बेहद बचकानी है। 

 

2019 में कांग्रेस का दामन छोड़ भाजपा की रैलियों का बने थे हिस्सा

 

छह बार के विधायक सिंह ने 2019 में कांग्रेस छोड़ दी थी और बाद में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से जुड़े रहे। हालांकि उन्होंने दावा किया कि वह कभी भी औपचारिक रूप से सत्तारूढ़ पार्टी में शामिल नहीं हुए। उन्होंने कहा, ‘‘मैं कुछ समय तक भाजपा से जुड़ा रहा, हालांकि मैं कभी औपचारिक रूप से इस पार्टी में शामिल नहीं हुआ और न ही किसी पद पर रहा। मैं कांग्रेस छोड़ने के बाद 2019 में भाजपा की चुनावी रैलियों में शामिल हुआ था।’’

 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

Related Story

Trending Topics

India

178/10

18.3

South Africa

227/3

20.0

South Africa win by 49 runs

RR 9.73
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!