संस्कृत के विद्वान डॉ. वेदप्रकाश 24 जून को पहुंचेंगे पंचकूला, 60 से अधिक विद्यार्थियों को करवा चुके पीएचडी

Edited By Vivek Rai, Updated: 22 Jun, 2022 05:20 PM

sanskrit scholar dr vedprakash will reach panchkula on 24th june

60 से ज्यादा विद्यार्थियों को पीएचडी करवा चुके  संस्कृत के प्रकाण्ड विद्वान डॉ. वेदप्रकाश उपाध्याय 24 जून को पंचकूला स्थित माता मनसा देवी राजकीय संस्कृत महाविद्यालय में पहुंचेंगे। यह जानकारी माता मनसा देवी राजकीय संस्कृत महाविद्यालय पंचकूला की...

चंडीगढ़(धरणी): 60 से ज्यादा विद्यार्थियों को पीएचडी करवा चुके  संस्कृत के प्रकाण्ड विद्वान डॉ. वेदप्रकाश उपाध्याय 24 जून को पंचकूला स्थित माता मनसा देवी राजकीय संस्कृत महाविद्यालय में पहुंचेंगे। यह जानकारी माता मनसा देवी राजकीय संस्कृत महाविद्यालय पंचकूला की प्राचार्या श्रीमती रीटा गुप्ता ने दी। प्रांगण में संस्कृत सम्भाषण शिविर चल रहा है, जिसका उद्घाटन आनन्द मोहन शरण जी के करकम‌लों द्वारा शुभारम्भ किया गया। यह आयोजन निदेशक डॉ. दिनेश शास्त्री, हरियाणा संस्कृत अकादमी के सौजन्य से सुचारू व्यवस्था में चल रहा है। 

संस्कृत सम्भाषण शिविर के समापन कार्यक्रम में शामिल होंगे डॉ. वेदप्रकाश

इस अवसर पर महाविद्यालय की प्राचार्या रीटा गुप्ता  ने बताया कि कार्यक्रम का समापन 24 जून को महाविद्यालय परिसर में होगा। इस कार्यक्रम में संस्कृत विद्वानों के साथ-साथ मुख्य अतिथि के रूप  में 60 से ज्यादा विद्यार्थियों को पीएचडी करवा चुके  संस्कृत के प्रकांड विद्वान डॉ. वेदप्रकाश उपाध्याय, हरियाणा सरकार द्वारा संस्कृत महामहोपाध्याय की मानद सर्वोच्च पदवी से विभूषित पहुंच कर सुशोभित करेंगें। प्रो० उपाध्‌याय जी को हाल ही में बुन्देलखण्ड झांसी में राष्ट्रीय शिक्षा गौरव सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है।

प्राचार्य  ने कहा कि संस्कृत संवादशाला का मुख्य उद्देश्य संस्कृत भाषा को जनभाषा बनाना है। इस कार्यक्रम में महाविद्यालय से डॉ. रेणुका ध्यानी व डॉ. राजबीर कौशिक संयोजक के रुप में कार्यभार सम्भाल रहे हैं। दुरदराज के क्षेत्रों से आने वाले शिक्षार्थियों को मनसा देवी मन्दिर में स्थित राजकीय संस्कृत महाविद्यालय में निरन्तर विशारद, शास्त्री, ज्योतिष डिप्लोमा, और कर्मकाण्ड का डिप्लोमा करवाया जाता है। इन विद्यार्थियों को प्राच्य विद्याओं के साथ-2 आधुनिक विषय भी पढ़ाये जाते हैं, जैसे अर्धशास्त्र, अंग्रेजी, राजनीति शास्त्र, हिन्दी, शारीरिक शिक्षा आदि।उत्तर- भारत में संस्कृत भाषा के उत्थान के लिए इस महाविद्यालय की छवि उज्ज्वल भविष्यात्मक पथ पर दृश्यमान हैं।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भीबस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!