नशा ग्रस्त क्षेत्रों में पुलिस इंस्पेक्टर अजित सिंह सहित भारी पुलिस बल मध्य रात्रि 2 बजे भी एक्टिव

Edited By Manisha rana, Updated: 11 Jun, 2022 12:18 PM

heavy police force including police inspector ajit singh active in drug affected

जब सारी दुनिया मध्य रात्रि सो रही हों, देर रात दो बजे के करीब पुलिस के जवान, थानेदार व खुद इंस्पेक्टर नाकेबंदी यह चैकिंग कर रहे हो यह बहुत कम देखा जाता..

चंडीगढ़ (धरणी) : जब सारी दुनिया मध्य रात्रि सो रही हों, देर रात दो बजे के करीब पुलिस के जवान, थानेदार व खुद इंस्पेक्टर नाकेबंदी यह चैकिंग कर रहे हो यह बहुत कम देखा जाता है। खासकर हरियाणा में क्योंकि प्रदेश में बहुत से संवेदनशील तथा ऐसे नाके हैं जहां पर पुलिस देर रात को ना के बराबर ही नजर आती है। अगर चंडीगढ़ का जिक्र किया जाए तो चंडीगढ़ में ड्रंक एंड ड्राइव के नाके अवश्य देर रात को देखने के लिए मिल जाते हैं। मगर चंडीगढ़ के अंदर पीसीआर ज्यादातर रात को अधिकांश चौक और चौराहों पर मौजूद रहती है।

शुक्रवार देर रात को लगभग 2:00 बजे के करीब चंडीगढ़ से आते हुए पंचकूला के प्रवेश द्वार सैक्टर 18 विजिलेंस नाका व राजीव कॉलोनी की तरफ पंचकूला सेक्टर 14 पुलिस थाने का क्षेत्र पड़ता है। इस मौके पर पुलिस कर्मचारी हर आने जाने वाले व्यक्ति की जहां चैकिंग कर रहे थे। वहीं रजिस्ट्रेशन की कॉपी भी देख रहे थे। चंडीगढ़ से पंचकूला होते हुए हरियाणा का प्रवेश द्वार एक तो हाउसिंग बोर्ड चौक से आता है जो सेक्टर 7 में प्रवेश करता है। दूसरा रस्ता जिसे चोर रास्ता कहा जाता है वह सेक्टर 18 विजिलेंस नाके की तरफ से आने वाला रास्ता है।

PunjabKesari

पंचकूला सेक्टर 14 के थानाध्यक्ष अजीत सिंह पूरी पुलिस फोर्स के साथ मध्य रात्रि 2:00 बजे अगर इस संवेदनशील नाके पर मौजूद हो। यह नशे के कारोबार में लगे लोगों के लिए सीधा संदेश अवश्य है कि पुलिस अब हरकत में है सावधान हो जाओ। पंचकूला के कमिश्नर ऑफ पुलिस हनीफ कुरैशी तथा डीसीपी सुरेंद्र पाल सिंह भी नशे के खिलाफ खुली मुहिम चला चुके हैं। इन परिस्थितियों के अंदर अगर पंचकूला के अंदर रात को पुलिस की सक्रियता नजर आती है तो यह कोई विडंबना नहीं है।

अगर रूटीन में बात की जाए तो पंचकूला के जानकार तथा पुराने रहने वाले लोगों का कहना है कि पंचकूला पुलिस ज्यादातर रात 11:00 बजे के बाद कहीं भी नजर नहीं आती थी। पंचकूला वासी पुराने लोगों का अगर कहना माना जाए तो उनका कहना है कि पंचकूला पुलिस की विभिन्न स्थानों पर देर रात मौजूदगी ही अपराधियों के लिए किसी खौफ से कम नहीं है। ऐसे लोग मानते हैं कि पंचकूला जो कि हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ से सटा हुआ है तथा हरियाणा की मिनी राजधानी है यहां पर नशा नशे से संबंधित कारोबार करने वाले लोग जो देर रात यह काम करते हैं उन पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस को देर रात अपनी प्रेजेंट साबित करनी पड़ेगी। 

देर रात शुक्रवार जिस तरह पंचकूला में विजिलेंस नाके पर राजीव कॉलोनी के पास भारी पुलिस बल की मौजूदगी देखी गई वह नहीं सुनते जनता में एक ठीक संदेश देने का काम करेगी। क्योंकि इस नाके पर सेक्टर 14 के पुलिस इंस्पेक्टर अजीत सिंह भारी पुलिस बल साहित खुद मौजूद थे। जबकि ज्यादातर ऐसा देखा जाता है कि रात को नाके लगते हैं ,उन पर पुलिस कर्मचारी तो रहते हैं लेकिन वक्त मगर पुलिस अधिकारी मौजूद नहीं होते।

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!