अंतरराज्यीय 9 बार्डर नाकों पर पुलिस कर्मचारियों को असला सहित मजबूत किया- सुरेंद्र पॉल सिंह

Edited By Vivek Rai, Updated: 25 May, 2022 09:21 PM

police with weapons at 9 border points of interstate surendra

नवनियुक्त डी सी पी पंचकुला सुरेंद्र पॉल सिंह नें बताया की जिला पंचकूला में एंटीं इक्स्ट्रीमिस्ट सैल का गठन किया गया है जिस का नेतृत्व राजपत्रित अधिकारी के द्वारा किया जा रहा है । जिस सेल के माध्यम से अपराधिक व आंतकवादी गतिविधियो पर विशेष निगरानी की...

चंडीगढ़(धरणी): नवनियुक्त डी सी पी पंचकुला सुरेंद्र पॉल सिंह नें बताया की जिला पंचकूला में एंटीं इक्स्ट्रीमिस्ट सैल का गठन किया गया है जिस का नेतृत्व राजपत्रित अधिकारी के द्वारा किया जा रहा है । जिस सेल के माध्यम से अपराधिक व आंतकवादी गतिविधियो पर विशेष निगरानी की जायेगी ।जिला में कडी सुरक्षा को लेकर अंतरराज्यीय 09 बार्डर नाकों पर असला सहित पुलिस कर्मचारियो सहित मजबूत किया गया है और इन नाकों पर तैनात पुलिस कर्मचारियो के लिए सुरक्षा को लेकर बाढ व्यवस्था भी की गई है इसके अलावा इन नाकों पर राजपत्रित अधिकारी समय-2 पहुंच कर असामाजिक गतिविधियो बारें ब्रीफ किया जा रहा है और इसके अलावा नाकों के द्वारा सदिंग्ध व्यक्तियो व वाहनों पर विशेष निगरानी की जा रही है ।किरायेदारों की वैरिफिकेशन हेतु ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में रहनें वालें सभी किरायेदारों की वैरिफिकेशन हेतु एक विशेष अभियान चलाया गया । जिस अभियान के तहत सभी बाहर से आये हुए सभी किराये पर रहनें वालें व्यक्तियो की वैरिफिकेशन होगी और उन सभी किरायेदारो का रिकार्ड सम्बन्धित थाना में मौजूद होगा ।

उन्होंने आमजन से भी अपील करते हुए कहा कि यदि आपके घर में कोई किराये पर रहता है उसकी वैरिफिकेशन जरुर करवायें क्योकि इसमें आपकी और हम सब की सुरक्षा है इसके अलावा थाना प्रबंधको को निर्देश दिए गये कि सभी गावों के मौजिज व्यकित के साथ मीटिंग का आयोजन करके सुनिश्चित करवायें कि गाँव यदि कोई व्यकित बाहर से किराये पर रहनें के लिए आता है पहले तो उसकी वैरिफिकेशन करवायें यदि कोई कोई सदिंग्ध हो तो उसकी सूचना संबधित थाना में जरुर दें ।

सुरेंद्र पॉल सिंह नें बतायॉ की नें थाना प्रंबधको, चौकी इन्चार्ज व क्राईम ब्रांच को निर्देश दिए गये कि थाना क्षेत्र में सिम कार्ड डिस्ट्रीब्यूटर व रिटेलरों के साथ मीटिंग आयोजित करकें निर्देश दिए जायें कि ठीक प्रकार से वैरिफिकेशन करके व्यकित के नाम सिम कार्ड इश्यु करें और अगर कोई व्यकित फेक डॉक्युमैन्ट इत्यादि पर सिम कार्ड लेता पाया गया तो उसकी जानकारी तुरन्त पुलिस को दें । इसके अलावा कहा कि थाना क्षेत्र में सभी डिस्ट्रीब्युटर व रिटलरो का रिकार्ड थाना स्तर होना चाहिए ।

सुरेंद्र पॉल सिंह नें बतायॉ की शहर पंचकूला में कडी निगरानी हेतु सीसीटीवी कन्ट्रोल रुम थाना सेक्टर 14 में स्थापित है जहां से सदिंग्ध व्यकितयों व वाहनों पर निगरानी की जा रही है इसके अलावा थाना प्रबधंक भी अपनें क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरो डिटेल रखे कि कहा कहां पर स्थापित है ताकि जरुरत पडनें पर तुरन्त सम्बधित कैमरो की मदद लें इसके अलावा थाना क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैंमरो के आप्रेटरो को निर्देश दिए जाये कि कैमरो का फोकस, रिकार्डिंग होनी चाहिए । सुरेंद्र पॉल सिंह नें बतायॉ की साइबर टीम को निर्देशित किया गया है कि टेक्निकल उपकरणों के माध्यम से असामाजिक तत्वों व अन्य अपराधियो गतिविधियो हेतु सोशल मीडिया (फेसबुक, टवीटर, यूटयूब) पर निगरानी करें और अगर कोई सग्दिंध या कोई अपराधियो गतिविधि पाई जाती है इस बारें पुलिस अधिकारीयों के सज्ञान में डाल तुरन्त कार्यवाही करें ।

सुरेंद्र पॉल सिंह नें बतायॉ की  सभी थाना प्रबंधको को निर्देश दिए गये लावारिश ,अज्ञात वस्तुओ तथा सदिग्ध व्यक्तियो पर निगरानी हेतु एक विशेष अभियान चलाया गया है जिस अभियान के सभी प्रबंधक थाना क्षेत्र के होटल, धर्मशाला, सराएं , को अच्छे तरीके से चेक करेंगें और ठहरनें वालें व्यक्तियो का रिकार्ड चेंक किया जायेगा अगर कोई सदिंग्ध पाया जाता है तुरन्त उस पर कार्यवाही करें । इसके अलावा सभी थाना प्रंबधको सार्वजनिक स्थानों पर लोगो को जागरुक भी किया जायें कि अगर कोई सदिंग्ध व्यकित या वस्तु नजर आती है तो उसके साथ छेडछाड ना करें उसकी सूचना तुरन्त पुलिस को दें ।

पर्यटन क्षेत्र मोरनी की सुरक्षा को लेकर हम पूरी तरह से गंभीर

इस मौके पर पंचकूला डीसीपी सुरेंद्र पाल सिंह ने बताया कि हरियाणा के एकमात्र पर्वतीय पर्यटन स्थल मोरनी में पर्यटकों को किसी प्रकार की दुविधा ना हो, वह अपने आप को सुरक्षित महसूस करें, इसे लेकर भी पंचकूला पुलिस एक महत्वपूर्ण रोल अदा करेगी। हमारी राइडर और 112 की गाड़ियां लगातार पेट्रोलिंग करेंगी। क्षेत्रीय पुलिस चौकी, थाना इत्यादि को अगर अतिरिक्त पुलिस फोर्स की भी जरूरत पड़ेगी तो स्ट्रैंथ बढ़ाने का काम किया जाएगा। इसके साथ साथ हम ना केवल फोर्स बल्कि अपने कर्मचारियों के मनोबल को बढ़ाने का भी काम करेंगे। अगर आत्मविश्वास और मनोबल मजबूत है तो व्यक्ति 10 गुना अधिक काम करने की क्षमता रखता है। इसलिए हम अपने कर्मचारियों के हौसले को बढ़ाएंगे। हम महिलाओं की सुरक्षा को लेकर भी पूरी तरह से चिंतित हैं। इसलिए भीड़भाड़ वाले क्षेत्र और स्कूल कॉलेजों के क्षेत्रों में खास नजर रखने का काम हमारी पुलिस करेगी। उन्होंने बताया कि इन क्षेत्रों में स्पेशल पेट्रोलिंग का काम किया जाएगा। नजदीकी पुलिस थाने और चौकियों अलर्ट कर दी गई है। जिन क्षेत्रों में महिलाएं सैर करती हैं या नौकरी पर जाती हैं, स्कूल आने जाने का रास्ता है, वहां की सेफ्टी रखना पुलिस का दायित्व है। इसे लेकर हम प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने बताया कि आज की पुलिस पढ़ी-लिखी होने के साथ-साथ हाईटेक है। हमने अपने कर्मचारियों को पूरी तरह से ब्रीफ कर दिया है। हमारी पुलिस परेशानी में आए हुए पीड़ित व्यक्ति को बड़े धैर्य और सहयोग से अटेंड करेगी।

आतंकवाद की बढ़ोतरी में नशे का मुख्य हाथ: सुरेंद्र पाल सिंह

देश के लिए बनी बड़ी समस्या नशा तस्करी पर रोक लगाने के लिए  नवनियुक्त डीसीपी पूरी तरह से गंभीर दिखे। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो इंटरनेशनल लिंक और सीमा पार से आने वाली बड़ी खेप पर नजर रखती है। लेकिन हम लगातार छोटी मात्रा में नशे के प्रोडक्ट बेचने वाले लोगों पर डायल 112 और स्पेशल नाकाबंदी के माध्यम से सीमावर्ती क्षेत्रों में ध्यान देंगे। इसके लिए हम लगातार दिन और रात पुलिस पेट्रोलिंग में भी बढ़ोतरी करेंगे। दिन में बैंक, मार्केट और ट्रैफिक एक्टिविटी और रात को महिला सुरक्षा व अन्य अपराधिक घटनाओं पर रोक के लिए पेट्रोलिंग होना अति आवश्यक है। पुलिस पेट्रोलिंग अपराधियों के दिल में खौफ पैदा करती है। हम जिप्सी, डायल 112, पैदल गश्त और मोटरसाइकिल के माध्यम से पुलिस की मौजूदगी दर्ज करवाएंगे। पंचकूला के क्षेत्रों की बीट पुलिस अधिकारियों को बांट कर उनकी जिम्मेदारी सुनिश्चित करेंगे। हम जनता को एहसास करवाएंगे कि पुलिस उनके आसपास है। ड्रग्स को लेकर हरियाणा पूरी तरह से पड़ोसी राज्यों के साथ और आम नागरिकों के साथ तालमेल बना रहा है। प्रदेश पुलिस नशे को लेकर गंभीर है और हम इसे उभरने नहीं देंगे। क्योंकि यह न केवल नौजवान पीढ़ी को गर्त में धकेलने का काम करता है, साथ ही इसके द्वारा कमाया गया पैसा आतंकवाद को फंडिंग करने में भी इस्तेमाल होता है। सीमा पार से लगातार नशे तस्करी से आतंकवाद को बढ़ावा मिलता है। इसलिए हम ना केवल ड्रग बेचने वाले बल्कि इनके फाइनेंसरों को भी बक्शने वाले नहीं हैं। हम लगातार सीमावर्ती राज्यों पंजाब, हिमाचल इत्यादि को लेकर केंद्रीय एजेंसियों के साथ तालमेल भी किए हुए हैं।

 

Related Story

Trending Topics

India

179/5

20.0

South Africa

131/10

19.1

India win by 48 runs

RR 8.95
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!