कैथल को-ऑपरेटिव मार्केटिंग सोसायटी में फर्जी तरीके से 14 युवा भर्ती, मंत्री कमलेश ढांडा ने 2 अधिकारियों को किया सस्पेंड

Edited By Saurabh Pal, Updated: 09 Feb, 2024 03:33 PM

case of fraudulently employing 14 people in kaithal

नई अनाजमंडी में बनी को-ऑपरेटिव मार्केटिंग कम प्रोसेसिंग सोसायटी में 14 युवाओं को फर्जी तरीके से नौकरी पर लगाए जाने का बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। इसमें हैफेड डीएम से लेकर मैनेजर व अन्य सदस्यों पर साठ गांठ करके फर्जी भर्ती करने के आरोप लगे हैं...

कैथल (जयपाल रसूलपुर): नई अनाजमंडी में बनी को-ऑपरेटिव मार्केटिंग कम प्रोसेसिंग सोसायटी में 14 युवाओं को फर्जी तरीके से नौकरी पर लगाए जाने का बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। इसमें हैफेड डीएम से लेकर मैनेजर व अन्य सदस्यों पर साठ गांठ करके फर्जी भर्ती करने के आरोप लगे हैं। मामले की जब कुछ अधिकारियों को अभास हुआ कि इस भर्ती प्रक्रिया पर सवाल उठ रहे हैं तो कुछ अधिकारियों ने अपने बचाव में प्रोसीडिंग बुक में भर्ती पर असहमति दर्ज कराई।

PunjabKesari

14 लोगों फर्जीवाड़े से मिली नौकरी

इस भर्ती को लेकर 12 दिसंबर 2023 को एक एजेंडा तैयार किया गया था। जिसमें निर्णय लिया गया कि 14 युवाओं को नौकरी पर रखा जाएगा। इन युवाओं में से किसी को क्लर्क तो किसी को हेल्पर के पद पर रखा गया। साठ गांठ के चलते 28 दिसंबर तक सभी कर्मचारियों ने सोसायटी में ज्वाइनिंग भी कर ली थी। इसके बाद लोगों ने सीएम विंडो से लेकर राज्यमंत्री कमलेश ढांडा को भी इसकी शिकायत की। जिसके बाद 11 जनवरी को राज्यमंत्री कमलेश ढांडा ने हैफेड के एमडी को लिखित में पत्र लिखा। जिसमें बताया गया कि हैफेड डीएम सुरेश वैद्य व मैनेजर शिशनपाल ने नियमों को ताक पर रखकर गलत तरीके से 14 युवाओं को भर्ती किया है। जिसमें दोनों अधिकारियों को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड करने की सिफारिश की गई थी। फिलहाल एक महीना बीत जाने के बाद भी सरकार की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की गई है। 

PunjabKesari

हैफेड डीएम ने छुट्‌टी के दिन ऑफिस में दस्तावेजों से की छेड़छाड़ 

सोसायटी के मैनेजर शिशनपाल ने डीएम हैफेड सुरेश वैद्य पर छुट्‌टी वाले दिन सोसायटी कार्यालय में आकर समिति की निदेशक मंडल मीटिंग की प्रोसिंडिंग बुक के साथ गलत तरीके से छेड़छाड़ कर उसमें बदलाव करने के आरोप लगाए हैं। इसको लेकर 19 जनवरी 2024 को डीएम हैफेड सुरेश वैद्य को एक लिखित में पत्र भी भेजा था। जिसमें लिखा था कि मीटिंग वाले दिन आपकी तरफ से भर्ती को लेकर कोई भी आपत्ति दर्ज नहीं कराई गई थी, लेकिन 17 जनवरी को छुट्‌टी वाले दिन ऑफिस में आकर कर्मचारियों पर अपने पद का दबाव बनाते हुए प्रोसिडिंग बुक में पिछली तारिखों में भर्ती पर असहमति दर्ज कर अपने साइन किए। मीटिंग वाले दिन अलग- अलग पेन के साथ ही हस्ताक्षर किए हैं। इससे साफ है कि प्रोसिडिंग बुक में गलत तरीके से छेड़छाड़ की गई है।  

ऐसे ही हुआ पूरा गोलमाल

बता दें कि 22 दिसंबर 2023 को समिति निदेशक मंडल की एक मीटिंग की गई। जिसमें एजेंडा रखा गया कि मार्केटिंग सोसायटी में जिले के विभिन्न स्थानों में फसल खरीद के लिए सहायक लेखाकार, स्टोर कीपर, क्लर्क, विक्रेता, सेवादार व चौंकीदार पदों के लिए 14 युवाओं की नियुक्ति करनी है। इस पर सदस्यों के साथ साथ हैफेड डीएम सुरेश वैध, तत्कालीन एआर जितेंद्र कौशिक, सोसायटी मैनेजर शिशनपाल सहित सभी ने हस्ताक्षर करके प्रस्ताव पास किया था। इसमें निरीक्षक इंचार्ज निदेशक शमशेर सिंह ने साइन नहीं किए थे। फर्जी तरीके से इस भर्ती प्रकिया को अंजाम दे दिया गया और मीटिंग के 6 दिन बाद 28 दिसंबर को सभी कर्मचारियों की ज्वाइनिंग भी करा दी गई थी। जब निरीक्षण शमशेर सिंह ने इसका विरोध किया और लोगों द्वारा भी इसकी शिकायत की गई और तो राज्यमंत्री ने भी मुख्यालय के मुख्य अधिकारियों को इसकी शिकायत लिखी और अधिकारियों ने आनन फानन में भर्ती प्रक्रिया पर बाद में अपनी असहमति जताई और भर्ती प्रक्रिया को रद्द करने की बात कही गई।  

इन युवाओं को अलग-अलग पदों पर किया गया था भर्ती

22 दिसंबर 2023 को समिति निदेशक मंडल की मीटिंग में जिले के विभिन्न स्थानों पर फसल खरीद के लिए 14 युवाओं को नौकरी पर रखा गया था। जिसमें सूरज किरण, नितिश, विक्रम, मुकेश रानी, हेमंत, रविंद्र, यश, नवीन, शुभम, दीपक, पवन, पूजा रानी, राहुल व मीना के नाम पर सहमति जताई थी।  

जे.गणेशन, प्रबंधक निदेशक, मार्केटिंग कमेटी कोऑपरेटिव, हैफेड पंचकूला ने बताया कि राज्य मंत्री की तरफ से भर्ती में अनियमितता को लेकर एक शिकायत मिली थी। जिसको लेकर जांच की जा रही है। जांच होने के बाद ही कुछ कहा जाएगा। यदि किसी ने गलत काम किया है तो उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। 

कमलेश ढांडा ने दिया निलंबन का आदेश

कमलेश ढांडा ने कहा कि लोगों द्वारा मुझे शिकायत मिली थी कि कैथल नई अनाज मंडी में बनी को- ऑपरेटिव मार्केटिंग कम प्रोसेसिंग सोसायटी में हैफेड डीएम सुरेश वैद्य व सोसायटी मैनेजर शिशपालन ने गलत तरीके से 14 युवाओं की भर्ती की है। इसके बाद मैंने हैफेड व कोऑपरेटिव प्रबंधक निदेशक को दोनों अधिकारियों को सस्पेंड करने की सिफारिश की थी। इसकी जांच मुख्यालय लेवल पर की जा रही है। उम्मीद है कि जल्द ही विभाग की तरफ से एक्शन होगा। 

हैफेड डी.एम सुरेश वैद्य ने बताया कि मंडल की बैठक वाले दिन वह प्रोसीडिंग बुक में अपनी अटेंडेंस लगाकर किसी कार्य के लिए बाहर चला गया था। जब उसने शाम को वापिस आकर देखा तो प्रोसिडिंग बुक में 14 युवाओं को नौकरी पर रखने की कार्यवाही लिखी पाई थी। उसने उसी समय भर्ती प्रक्रिया पर असहमति जताई दी थी।  

(हरियाणा की खबरें अब व्हाट्सऐप पर भी, बस यहां क्लिक करें और Punjab Kesari Haryana का ग्रुप ज्वाइन करें।) 
(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

Related Story

Trending Topics

India

397/4

50.0

New Zealand

327/10

48.5

India win by 70 runs

RR 7.94
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!