पंचायत व निगम चुनावों से पूर्व संगठन में जोश भरेगी भाजपा, प्रदेशाध्यक्ष और संगठन महामंत्री रहे मौजूद

Edited By Isha, Updated: 02 Aug, 2022 11:31 AM

before the panchayat and corporation elections

पंचायत व निगम चुनावों से पूर्व भाजपा संगठन में जोश भरने की तैयारी में जुट गई है। इसी कड़ी में दिल्ली में आज भाजपा की छोटी टोली की बैठक आयोजित की। इस बैठक में प्रदेश प्रभारी भाजपा विनोद तावड़े, मुख्यमंत्री मनोहरलाल, प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनख

फरीदाबाद: पंचायत व निगम चुनावों से पूर्व भाजपा संगठन में जोश भरने की तैयारी में जुट गई है। इसी कड़ी में दिल्ली में आज भाजपा की छोटी टोली की बैठक आयोजित की। इस बैठक में प्रदेश प्रभारी भाजपा विनोद तावड़े, मुख्यमंत्री मनोहरलाल, प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ व संगठन मंत्री रविंद्र राजू मौजूद रहे। यह बैठक कई घंटे चली और 3 अहम मुद्दों पर चर्चा की गई। बैठक के बाद भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि पंचायत व निगम चुनावों को लेकर भाजपा ने अपनी तैयारियां और तेज कर दी हैं। इसके तहत प्रदेश के सभी जिलों में शक्ति केंद्रों की कार्यशाला होगी ताकि संगठन को शक्ति केंद्र तक मजबूत किया जा सके। इन कार्यशालाओं में 4 हजार शक्ति केंद्र प्रमुख भाग लेंगे। ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि जैसा कि सितंबर माह में पंचायत चुनाव अपेक्षित हैं तो इसको लेकर भी विस्तृत चर्चा की गई।

सिंबल पर भाजपा चुनाव लड़ेगी या नहीं, इस सवाल के जबाब में धनखड़ ने कहा कि सिंबल पर चुनाव लडऩे या न लडऩे का फैसला भविष्य में लिया जाएगा तथा इसके लिए गठित कमेटी यह निर्णय लेगी और कमेटी का जो भी निर्णय होगा वह सर्वमान्य होगा। वहीं ओमप्रकाश धनखड़ ने बताया कि भाजपा के हर घर तिरंगा अभियान को लेकर भी रूपरेखा तैयार की गई जिसमें 10 लाख लोगों के घरों तक पहुंचने का लक्ष्य रखा गया है। किस तरह से इस लक्ष्य को पूरा किया जाएगा, इस पर विस्तार से बात की गई। ओमप्रकाश धनखड़ ने बताया कि इस बैठक में विशेष बात यह भी रही कि संगठन ने सरकार से उनकी संगठन से अपेक्षाएं पूछी हैं जबकि अभी तक केेवल संगठन की सरकार से अपेक्षाओं पर चर्चा की जाती थी। उन्होंने कहा कि अंत्योदय योजना का लाभ लाभार्थी तक पहुंचे इसके लिए संगठन किस तरह काम करेगा, उस पर चर्चा की गई।


कांग्रेस का चिंतन चिंता ज्यादा


प्रदेश भाजपाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने कांग्रेस के एक दिवसीय चिंतन शिविर पर व्यंगय कसहते हुए कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि कांग्रेस चिंतन नहीं बल्कि चिंता ज्यादा कर रही है और पार्टी को उनके भविष्य की चिंता ज्यादा सता रही है। धनखड़ ने कहा कि कांग्रेस के इस चिंतन शिविर से पहले प्रदेश प्रभारी विवेक बंसल को लेकर कांग्रेसी नेताओं के बीच किस तरह से घमासान हुआ, यह किसी से छिपा नहीं है। उन्होंने कहा कि एक परिवार के नेतृत्व को देश और पार्टी के प्रमुख नेताओं ने नकार दिया है। अब कुछ चापलूस प्रकार के लोग ही पार्टी में सक्रिय हैं।  
 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!