निकाय चुनावों को लेकर प्रशासन सख्त, चुनाव प्रचार हुआ बंद, 18 और 19 को रहेगा ड्राई डे

Edited By Vivek Rai, Updated: 17 Jun, 2022 08:11 PM

administration strict regarding civic elections campaigning stopped

19 जून को होने वाले शहरी निकाय चुनाव को लेकर राज्य चुनाव आयोग पूरी तरह से जहां सख्त है, वही अग्निपथ योजना के हो रहे विरोध को लेकर प्रशासन को अलर्ट रहने तथा पर्याप्त इंतजामात करने के भी आदेश जारी हुए हैं।

चंडीगढ़(धरणी): 19 जून को होने वाले शहरी निकाय चुनाव को लेकर राज्य चुनाव आयोग पूरी तरह से जहां सख्त है, वही अग्निपथ योजना के हो रहे विरोध को लेकर प्रशासन को अलर्ट रहने तथा पर्याप्त इंतजामात करने के भी आदेश जारी हुए हैं। हरियाणा के राज्य चुनाव आयुक्त धनपत सिंह ने इस विषय की गंभीरता को देखते हुए प्रदेश पुलिस महानिदेशक प्रशांत अग्रवाल से बात करते हुए सभी पोलिंग बूथ और काउंटिंग सेंटर्स पर पुलिस की पर्याप्त तैनाती और चौकसी के आदेश जारी किए हैं। बता दें कि 19 तारीख को प्रदेश के 18 नगर परिषदों और 28 नगर पालिकाओं में चुनाव होने हैं। जिसमें 888 वार्ड के लिए राज्य चुनाव आयोग ने 1961 बूथ बनाए हैं। इन चुनावों में 4712 ईवीएम मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा। 10,000 पोलिंग स्टाफ और 12500 पुलिस कर्मचारी व होमगार्ड सुरक्षा में तैनात रहेंगे। इन चुनावों को लेकर शुक्रवार शाम 6 बजे चुनाव प्रचार बंद हो गया। 19 तारीख को होने वाली वोटिंग को लेकर 6 बजे से बाद कैंडिडेट केवल वोट डालने की प्रार्थना को लेकर डोर टू डोर ही कर पाएंगे। जनसभाएं या अन्य प्रकार के कार्यक्रम करने पर पूर्णतया पाबंदी रहेगी।

प्रदेश में होने वाले इन शहरी निकाय चुनावों का बेहद महत्वपूर्ण रोल आगामी पंचायती व करीब 2 साल बाद होने वाले विधानसभा चुनावों में भी रहेगा।इसलिए इन चुनावों को सभी राजनीतिक दल बेहद गंभीरता से देख रहे हैं। इसलिए चुनावों में वोटरों को लुभाने के लिए शराब व अन्य प्रकार की सामग्री के प्रयोग की भी बेहद आशंका चुनाव आयोग को है। इसे लेकर भी आयोग ने प्रदेश के तमाम जिला उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों को बेहद चौकन्ना रहने और सुरक्षा के साथ-साथ इस प्रकार की गतिविधियों पर भी नजर रखने के सख्त आदेश जारी किए हैं। 18 व  19 तारीख को प्रदेश के इन विभिन्न क्षेत्रों में शराब की बिक्री या सर्व करने पर पूरी तरह से पाबंदी रहेगी। इस दौरान ना केवल शराब ठेके बल्कि लाइसेंसी बार भी शराब की बिक्री नहीं कर पाएंगे।

चुनाव आयोग ने 1200 से अधिक वोट वाले क्षेत्र में एडिशनल पोलिंग ऑफिसर की भी ड्यूटी लगाई है ताकि चुनाव पूरी तौर पर निष्पक्ष करवाई जा सके। इसे लेकर आयोग द्वारा पर्याप्त ईवीएम मशीनों के इंतजाम के बाद फर्स्ट चेकिंग की गई है। हर जिले में मौजूद भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड के इंजीनियरस द्वारा ऑब्जर्वर्स, आरो और इच्छानुसार कैंडीडेट्स की मौजूदगी के दौरान फर्स्ट चेकिंग के साथ-साथ सभी औपचारिकताएं पूरी की गई हैं। आयोग ने ट्रेनिंग और एक्चुअल वोटिंग में इस्तेमाल की जाने वाली ईवीएम की एक्चुअल आवश्यक जानकारी राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों को भी दे दी हैं ताकि किसी भी प्रकार की आशंका या ईवीएम बदलने जैसी शिकायतों की संभावनाएं ना रहे।

चुनाव पूरी तरह से निष्पक्ष करवाने को लेकर राज्य चुनाव आयोग पूरी तरह से अलर्ट है। अग्निपथ योजना के हो रहे विरोध के चलते पलवल उपायुक्त कैंप हाउस पर पथराव की सूचना के बाद प्रदेश चुनाव आयुक्त धनपत सिंह ने पलवल उपायुक्त से भी गहनता से बातचीत की और सभी जिला उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षक को सख्त हिदायतें जारी की कि चुनाव में किसी प्रकार का विघ्न या बाधा ना आए, इसके लिए किसी प्रकार की कोताही नहीं होनी चाहिए। लाइसेंस हथियारों की चेकिंग, नॉन बेलेबल वारंट इश्यू वालों को तामील, बेलजंपर्स पर कार्यवाही, पैरोल वालों पर नजर रखने समेत कई हिदायतें जारी हुई हैं। चुनाव पूरी तरह से निष्पक्ष हो इसलिए आयोग ने अपने कुछ अधिकारी- कर्मचारियों की ड्यूटीयां अन्य नगर पालिकाओं या परिषदों के चुनाव क्षेत्र में इसलिए लगाई हैं क्योंकि का कोई रिश्तेदार या ब्लड रिलेशन का उम्मीदवार चुनाव मैदान में था।

 

 

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!