शहीद मेजर आशीष के परिजनों से मिलने पहुंचे CM मनोहर लाल, परिवार को 50 लाख रुपये व पत्नी को नौकरी देने का दिया आश्वासन

Edited By Mohammad Kumail, Updated: 17 Sep, 2023 03:20 PM

cm manohar lal reached to meet the family of martyr major ashish

आतंकवादियों के साथ लोहा लेते हुए मुठभेड़ में देश के लिए जान न्योछावर करने वाले शहीद मेजर आशीष के परिजनों से रविवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल मिलने पहुंचे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आशीष के पिता से मिलकर ढांढस बंधाया...

पानीपत (सचिन शर्मा) : आतंकवादियों के साथ लोहा लेते हुए मुठभेड़ में देश के लिए जान न्योछावर करने वाले शहीद मेजर आशीष के परिजनों से रविवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल मिलने पहुंचे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आशीष के पिता से मिलकर  ढांढस बंधाया। मुख्यमंत्री ने आशीष के पिता के कंधों को थपथपाते हुए कहा की बेटे ने देश के लिए कुर्बानी दी है। वहीं मुख्यमंत्री पिता से मिलने के बाद आशीष की मां, पत्नी और बहनों से भी मिले। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आशीष के परिजनों को 50 लख रुपए आर्थिक मदद व योग्यता के आधार पर पत्नी को नौकरी देने का आश्वासन दिया।

PunjabKesari

मुख्यमंत्री ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि आशीष एक होनहार जवान था जो 11 साल की सर्विस में मेजर रैंक पर पहुंच गया था। उन्होंने कहा कि आशीष देश पर शहीद हुआ है और अपना बलिदान दिया है, कुर्बानी दी है। उनके नाम  को अमर रखने के लिए पूरा समाज और सरकार हर संभव प्रयास करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि विषम परिस्थिति यह है कि उनकी तीन बहने हैं और एक ढाई साल की बेटी है, उनकी पत्नी है। उस नाते से सरकारी सिस्टम के तहत जो भी अधिकतम सहयोग होगा वह किया जाएगा और परिवार को 50 लख रुपए आर्थिक मदद व उनकी पत्नी को योग्यता के आधार पर सरकारी नौकरी दी जाएगी। आशीष के नाम को अमर रखने के लिए परिवार की तरफ से जो भी प्रस्ताव दिया जाएगा उनके हर प्रस्ताव को पूरा करने का हर संभव प्रयास किया जाएगा।

PunjabKesari

बता दें की मेजर आशीष जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में सर्च ऑपरेशन के दौरान मुठभेड़ में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए देश के लिए कुर्बान हो गए थे। वहीं उनके साथ एक डीएसपी सेमत तीन जवान भी शहीद हो गए थे। जब मेजर आशीष का पार्थिव शरीर पानीपत उनके टीडीआई आवास पर लाया गया तो उनके आवास पर उनके अंतिम दर्शन के लिए जन सैलाब उमड़ पड़ा था और हजारों की संख्या में लोगों ने मेजर आशीष को उनके पैतृक गांव में अंतिम विदाई दी। बता दें कि आशीष अपनी शहादत के बाद अपने पीछे पूरा परिवार पीछे छोड़ गए। जिसमें तीन बहनें, उनकी पत्नी, बूढ़े मां-बाप और एक ढाई साल की बेटी है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)     

(हरियाणा की खबरें अब व्हाट्सऐप पर भी, बस यहां क्लिक करें और Punjab Kesari Haryana का ग्रुप ज्वाइन करें।)

Related Story

Trending Topics

Afghanistan

134/10

20.0

India

181/8

20.0

India win by 47 runs

RR 6.70
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!