RTA में दलाली के नाम पर मंथली मांगने वाले कैथल SDM का 2 दिन का रिमांड

Edited By Manisha rana, Updated: 20 Jan, 2022 10:28 AM

2 days remand of kaithal sdm seeking monthly brokerage in rta

अम्बाला आर.टी.ए. में एडिशनल चार्ज के दौरान कैथल के ट्रांसपोर्टर से 6 हजार रुपए मंथली मांगने के मामले में गिरफ्तार किए गए...

अम्बाला शहर : अम्बाला आर.टी.ए. में एडिशनल चार्ज के दौरान कैथल के ट्रांसपोर्टर से 6 हजार रुपए मंथली मांगने के मामले में गिरफ्तार किए गए कैथल के एस.डी.एम. अमरेंद्र सिंह को विजीलैंस की जांच टीम ने सी.जे.एम. की कोर्ट में पेश किया। आरोपी अधिकारी का कोर्ट से 2 दिन का रिमांड मंजूर हुआ है। आरोपी से रिमांड के दौरान 2 महीने में ट्रांंसपोर्टरों से मंथली के नाम पर एकत्र की गई करीब 7 लाख रुपए की राशि रिकवर की जानी है।

उधर, इस मामले में फरार चल रहे आर.टी.ए. इंस्पैक्टर की जमानत याचिका फिलहाल हाईकोर्ट में विचाराधीन है, जिसको लेकर अभी तक 2 बार सुनवाई हो चुकी है। गौरतलब है कि अम्बाला जिला परिवहन अधिकारी डी.टी.ओ. (आर.टी.ए. विभाग) गौरी मिड्ढा 21 सितम्बर को करीब 40 दिन की लम्बी छुट्टी पर गई थी। इस दौरान अम्बाला आर.टी.ए. का चार्ज सरकार द्वारा उस समय के पंचकूला आर.टी.ए. अमरेंद्र सिंह को सौंपा गया था। अम्बाला का चार्ज मिलने के बाद अधिकारी ने अपने विभाग के 1 इंस्पैक्टर व अन्य को साथ लेकर टीम बनाई, जिसने हाईवे पर ओवरलोडिंग वाहनों से मंथली मांगनी शुरू कर दी थी।

इसी दौरान कैथल निवासी 1 ट्रांसपोर्टर ने विजीलैंस कार्यालय में हाईवे पर उनके रोके गए ट्रक चालक से पैसे मांगने व बाद में उनसे मंथली मांगने की शिकायत कर दी थी। इसके बाद विजीलैंस टीम ने आर.टी.ए. विभाग के अस्थाई तौर पर कार्यरत चालक कर्णवीर और गुरप्रीत व जसपाल ट्रांसपोर्टर को रिश्वत के पैसे लेते गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद मामले में 1 सब इंस्पैक्टर सरकारी गवाह बन गया और उसने मंथली सैंटिंग की पोल जांच टीम के सामने खोलकर रख दी। इसके बाद टीम ने आर.टी.ए. विभाग के इंस्पैक्टर व एस.डी.एम. अमरेंद्र सिंह का नाम भी इस मामले में शामिल कर इनकी गिरफ्तारी के लिए प्रयास करने शुरू कर दिए थे। बाकायदा जांच टीम ने अधिकारी को दिसम्बर महीने में अपने कार्यालय ले जाकर कई घंटे तक उससे पूछताछ भी की थी। 

अक्तूबर व नवम्बर महीने में ट्रांसपोर्टरों से इक्ट्ठे किए 7 लाख रुपए : विजीलैंस की जांच टीम के मुताबिक अधिकारी अमरेंद्र सिंह व उसकी बनाई गई टीम ने अक्तूबर महीने में हाईवे पर चलने वाले ओवरलोडिंग वाहनों के मालिक ट्रांसपोर्टरों से 3 लाख और नवम्बर महीने में 4 लाख रुपए की वसूली की थी। इस तरह से टीम ने 2 महीने में कुल 7 लाख रुपए ट्रांसपोर्टरों से वसूले। पैसे वसूलने के बाद इनके वाहनों पर बाकायदा 1 स्पैशनल स्टीकर भी लगाया गया था, ताकि आर.टी.ए. की टीम इन वाहनों को चैकिंग के लिए न रोक सके। इन्हीं 7 लाख रुपए की रिकवरी के लिए जांच टीम ने आरोपी अधिकारी का 2 दिन का कोर्ट से रिमांड लिया है। 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Gujarat Titans

Rajasthan Royals

Teams will be announced at the toss

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!