आज शिक्षा मंत्री आवास व बीजेपी विधायक कार्यालय पर करेंगी रोष प्रदर्शन

Edited By Isha, Updated: 16 Jun, 2022 10:06 AM

today there will be a rage at the education minister s residence

आंगनवाड़ी वर्कर्स व हैल्पर्स की तालमेल कमेटी के आह्वान पर जिले की तमाम आंगनवाड़ी वर्कर्स व हैल्पर्स हरियाणा सरकार की हठधर्मिता व वायदाखिलाफी के विरोध में वीरवार को बस स्टैंड पर इकट्ठा होकर बीजेपी विधायक घनश्याम दास अरोड़ा के

यमुनानगर : आंगनवाड़ी वर्कर्स व हैल्पर्स की तालमेल कमेटी के आह्वान पर जिले की तमाम आंगनवाड़ी वर्कर्स व हैल्पर्स हरियाणा सरकार की हठधर्मिता व वायदाखिलाफी के विरोध में वीरवार को बस स्टैंड पर इकट्ठा होकर बीजेपी विधायक घनश्याम दास अरोड़ा के कार्यालय व उसके बाद शिक्षा मंत्री के आवास पर जलूस की शक्ल में नारेबाजी करते हुए अपना विरोध दर्ज करवाएंगी। इसके अलावा 17 जून को नई अनाज मंडी में प्रदर्शन के दौरान हल्का रादौर के कांग्रेसी विधायक बिशन लाल सैनी व हल्का साढौरा विधायिका रेणु बाला को भी अपना मांग पत्र सौंपेगी।

इसी को लेकर जिला प्रधान रेखा सैनी ने बताया कि इन प्रदर्शनों का नोटिस बुधवार को जत्थे में शामिल पी.डब्ल्यू.डी. जिला प्रधान किशोर कुमार, जिला सचिव प्रेम प्रकाश, रमेश, नगरपालिका से राजकुमार ससोली, पपला विक्की पारचा, मुकेश आदि ने सभी पक्ष व विपक्ष के विधायकों को दिया। उन्होंने बताया कि मंगलवार को संघ कार्यालय दशहरा मैदान में इन प्रदर्शनों की तैयारी के लिए एक विशेष बैठक भी बुलाई गई, जिसकी अध्यक्षता खुद जिला प्रधान रेखा सैनी द्वारा की गई थी। बैठक में उपस्थित आंगनवाड़ी जिला सचिव सुनीता करहेड़ा, उपप्रधान सुनीता सुघ, रजनी, सर्व कर्मचारी संघ जिला प्रधान महिपाल सौदे, सीटू जिला सचिव शरबती देवी, कैशियर रामकुमार काम्बोज व रिटायर्ड संघ से जिला प्रधान सोमनाथ, राजबीर पिंडोरा, जरनैल सिंह चनालिया, रोशन लाल व विनोद त्यागी ने भी अपनी बात रखते हुए बताया कि हरियाणा सरकार ने 975 वर्कर्स-हैल्पर्स की सेवा समाप्त करके बहुत बड़ा विश्वासघात कर दिया है। इनमे बड़ा हिस्सा विधवा व एकल महिलाओं का है।



विभाग व सरकार द्वारा 4 अप्रैल को वायदा किया गया था की हड़ताल वापसी के साथ ही सभी बर्खास्त कर्मियों की सेवाएं बहाल होंगी। मानदेय जारी होगा और पुलिस केस वापस होंगे। दो महीने से ज्यादा का समय हो चुका है, लेकिन इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया है। उन्होंने कहा कि पोषण ट्रैकर एप से काम करवाने के लिए भारी दबाव डाला जा रहा है, जबकि 3 साल से पैसा राज्य सरकार के पास आया है, लेकिन मोबाइल फोन प्रदान नहीं किए जा रहे। गेंहू चावल के अलावा कोई राशन आंगनवाड़ी में नहीं दिया जा रहा है, गैस सिलैंडर नहीं भरवाए, जबकि रेशीपी बनवाने के लिए मानसिक उत्पीड़न किया जा रहा है। इसके खिलाफ आगामी दिनों में 52000 आंगनवाड़ी वर्कर्स और हैल्पर्स का आंदोलन खड़ा होगा।

साथ ही मजदूरों-किसानों के संगठन भी आंदोलन के समर्थन में उतरेंगे। उन्होंने बताया कि सरकार वैसे तो बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा देती है, दूसरी तरफ हरियाणा की हजारों बेटियों के साथ दुश्मनों जैसा व्यवहार कर रही है। उन्होंने कहा की प्रदेश की 52000 आंगनवाड़ी वर्कर्स और हैल्पर्स सरकार की इस ज्यादती को देख रही हैं। वे इसके खिलाफ सड़कों पर उतरेंगी। 4 जुलाई को पंचकूला में हजारों की संख्या में वर्कर्स व हैल्पर्स पहुंचकर महानिदेशक महिला बाल विकास के दफ्तर पर बड़ा विरोध प्रदर्शन करेंगी। स्थानीय निकाय चुनावों में मांगों को मुद्दा बनाने के लिए 16-17 जून को जोरदार प्रदर्शन किए जाएंगे।

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!