कोसली पावर प्लांट हादसा : आग में झुलसे पांच कर्मचारियों में से 4 की मौत, धरने पर बैठे ग्रामीण

Edited By Vivek Rai, Updated: 05 Jun, 2022 08:43 PM

kosli power plant accident 4 out of five employees scorched in fire

पावर प्लांट में लगी आग से झुलसे पांच कर्मचारियों में से चौथे ने भी दम तोड दिया है। ग्रामीणों ने कर्मचारी के शव को प्लांट के गेट पर रखकर धरना दिया। ग्रामीणों का आरोप है कि प्लांट के प्रबंधकों ने घायलों के ठीक होने की गलत सूचना देकर मृतकों के परिजनों...

रेवाड़ी(महेंद्र): जिले के कोसली के पावर प्लांट में लगी आग से झुलसे पांच कर्मचारियों में से चौथे ने भी दम तोड दिया है। ग्रामीणों ने कर्मचारी के शव को प्लांट के गेट पर रखकर धरना दिया। ग्रामीणों का आरोप है कि प्लांट के प्रबंधकों ने घायलों के ठीक होने की गलत सूचना देकर मृतकों के परिजनों को गुमराह किया है। प्लांट मालिक व दोषियों की गिरफ्तारी और प्लांट सील करवाने की जिद पर अड़े ग्रामीणों ने प्लांट के बाहर प्रदर्शन किया। एसडीएम ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। इसके बाद ग्रामीणों ने अपना धरना खत्म किया। अभी भी एक कर्मचारी अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहा हैं।

दो दिन पहले प्लांट भट्टी की चिमनी से लगी थी आग

दरअसल विधानसभा कोसली के ख़ुर्शीदनगर स्थित के-2 ग्रीन एनर्जी पावर प्लांट में दो दिन पहले प्लांट भट्टी की चिमनी से अचानक बैक प्रैशर आने के चलते आग लग गई थी। सुबह करीब पांच बजे लगी आग में वहां काम कर रहे 5 कर्मचारी बुरी तरह झुलस गए थे। घायलों को उपचार के लिए दिल्ली एम्स में भर्ती करवाया गया था। बीती रात उपचार के दौरान तीन की मौत हो गई थी। आज शाम कोसली निवासी 28 वर्षीय नरेंद्र नाम के कर्मचारी की भी मौत हो गई। जब मृतक का शव गांव पहुंचा तो ग्रामीण आवेश में आ गए। इसके बाद वह शव को प्लांट के सामने रखकर धरने पर बैठ गए और कंपनी मालिक व अन्य दोषियों की गिरफ्तारी की मांग पर अड़ गए।

एसडीएम के आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने खत्म किया धरना

पुलिस के आलाधिकारियों व एसडीएम द्वारा जल्द कार्यवाही करने का आश्वासन मिलने के बाद ग्रामीणों ने वहां से शव को हटाया। वहीं कोसली पुलिस ने धारा 304 के तहत प्लांट मालिक राजपाल यादव के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि इतने बड़े प्लांट में न तो अग्निशमन यंत्रों की सुविधा थी और न ही कर्मचारियों को कोई सेफ्टी उपकरण उपलब्ध करवाया गया था। ग्रामीणों का आरोप है कि इस हादसे में 5 कर्मचारी 90 फीसदी से अधिक जल चुके थे, जबकि कंपनी प्रबंधन उनके ठीक होने का झूठा आश्वासन देता रहा।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च)

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!