हरियाणा की बेटियां बेटों से कम नहीं, इटर नेशनल कराटे प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल किया हासिल

Edited By Manisha rana, Updated: 02 Jul, 2022 12:32 PM

haryana s daughters are no less than sons

हरियाणा की बेटियां बेटों से कम नहीं है। प्रदेश की लड़कियों में जोश जब्बा, हिम्मत, जुनून व कुछ कर गुजरने का क्षमता है जहां हिसार जिले के गांव बनभौरी...

हिसार (विनोद सैनी) : हरियाणा की बेटियां बेटों से कम नहीं है। प्रदेश की लड़कियों में जोश जब्बा, हिम्मत, जुनून व कुछ कर गुजरने का क्षमता है जहां हिसार जिले के गांव बनभौरी की दिव्या ने नेपाल में आयोजित ओपन इंटरनेशनल कराटे चैम्पियनशिप में गोल्ड जीत कर देश व हरियाणा का नाम रोशन किया है। दिव्या ने जो नेपाल में गोल्ड मेडल जीत कर जो इतिहास रचने का काम किया है। 

दिव्या के परिजनों का कहना है कि आज के दौर में बेटियां बेटों से कम नहीं है। ऐसी बेटी को दिल से सलाम है। इससे पहले दिव्या नेशनल व राज्य स्तर पर आयोजित कराटे प्रतियोगिता में कई मैडल जीत चुकी है। 

PunjabKesari

कराटे खिलाड़ी दिव्या ने कहा कि नेपाल में इटर नैशनल कराटे प्रतियोगिता में कम्पीटीशन काफी मुश्किल था फिर भी उसने हिम्मत नहीं हारी और फाइनल मैच में नेपाल की खिलाड़ी को हराकर भारत देश के लिए गोल्ड मैडल जीता है। उसने बताया कराटे खेल में आजाद सिंह कोच ने कराटे में हमेशा उसे आगे बढ़ाने का काम किया है। उसका अगला टागरेट कामनवेल्थ स्कूल गेम्स में हिस्सा लेकर मैडल हासिल करना चाहती है। उसने कहा कि मेेरे माता-पिता ने कराटे खेल को आगे बढ़ाने के लिए पूर सहयोग दिया और मेरा भाई भी कराटे खेल रहा है। दिव्या ने बताया कि नेपाल से पहले वह नेशनल व इटर राज्य स्तर कई प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर मैडल हासिल कर चुकी है।

PunjabKesari

खिलाड़ी के पिता सुरेंद्र ने कहा कि दिव्या पांचवी कक्षा में होर्स राइडिंग करती थी परंतु बाद में वह कराटे सिखने लगी और कराटे खेल में लगातार खेलों में वर्चस्व स्थापित कर रही है। उन्होंने कहा कि कराटे खेल के लिए सुबह और शाम को खेल की तरफ ध्यान देती है और साथ आर्मी स्कूल में पढ़ाई कर रही है। पिता ने बताया कि दिव्या को बुखार हो गया था परंतु इसका जुजून इनता था कि वह नेपाल जाकर प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर भारत के लिए गोल्ड मैडल जितेगी है। वहीं माता मंजू बाला ने कहा कि मैंने मेरी बेटी के लिए काफी स्ट्रगल किया है। आज के दौर में बेटी बेटों में कोई अंतर नहीं है। बेटी भी अपने फिल्ड में आग बढ कर नाम रोशन कर रही है। उन्होने बताया कि अब तक राष्ट्रीय राज्य स्तर पर कई मैडल व प्रमाण पत्र हासिल किए है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!