हुड्डा पिता-पुत्र के विरोध में उतरे पूर्व मंत्री कृष्णमूर्ति, बोले- कांग्रेस में रहकर खुलकर करेंगे विरोध (VIDEO)

Edited By Gourav Chouhan, Updated: 20 Sep, 2022 03:43 PM

उन्होंने आरोप लगाया कि हुड्डा पिता-पुत्र कांग्रेस पर कब्जा किए हुए बैठे हैं। कृष्णमूर्ति ने तो भूपेंद्र हुड्डा पर आलाकमान को ब्लैकमेल करवा कर अपनी बात मनवाने का आरोप भी लगाया है।

रोहतक(दीपक): हरियाणा कांग्रेस कमेटी की डेलीगेट्स लिस्ट में नाम ना आने पर कांग्रेस नेता एवं पूर्व मंत्री कृष्णमूर्ति हुड्डा ने खुलकर नाराजगी जाहिर की है। गुस्साए नेता ने भूपेंद्र हुड्डा और दीपेंद्र हुड्डा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि हुड्डा पिता-पुत्र कांग्रेस पर कब्जा किए हुए बैठे हैं। कृष्णमूर्ति ने तो भूपेंद्र हुड्डा पर आलाकमान को ब्लैकमेल करवा कर अपनी बात मनवाने का आरोप भी लगाया है।

 

प्रदेश कांग्रेस कमेटी में नाम ना आने से खफा हैं पूर्व मंत्री

 

दरअसल हरियाणा कांग्रेस ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के 195 डेलिगेट्स की एक सूची जारी करने की बात कही है। वहीं चंडीगढ़ में होने वाली कांग्रेस के विधायक दल और डेलिगेट्स की मीटिंग से पहले डेलिगेट्स को फोन पर बैठक में शामिल होने का निमंत्रण दिया गया था। डेलिगेट्स लिस्ट में नाम आने की उम्मीद लगा कर बैठे पूर्व मंत्री कृष्णमूर्ति हुड्डा ने बैठक में शामिल होने का निमंत्रण ना मिलने पर ऐलान कर दिया कि मैं कांग्रेस पार्टी में रहकर करूंगा खुलकर विरोध करूंगा। उन्होंने कहा कि दीपेंद्र हुड्डा लोकसभा चुनाव हारे और हारे हुए नेता को कांग्रेस ने आदमपुर उपचुनाव की कमान दे दी है। कृष्णमूर्ति ने तो यहां तक कह दिया कि उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी को करारी हार का सामना करना पड़ेगा।  

 

दीपेंद्र हुड्डा को दी चुनौती, अब कभी सांसद नहीं बन पाएंगे

 

कृष्णमूर्ति ने कहा कि भूपेंद्र हुड्डा व दीपेंद्र हुड्डा कांग्रेस आलाकमान को ब्लैकमेल कर अपनी मनमर्जी चला रहे हैं और जो पुराने कांग्रेसियों को दरकिनार किया जा रहा है। लेकिन अब ऐसा नहीं होने दिया जाएगा और वे कांग्रेस पार्टी में रहकर ही दोनों पिता पुत्रों का खुलकर विरोध करेंगे। यही नहीं दीपेंद्र हुड्डा तो अब संसद का कभी भी मुंह नहीं देख पाएंगे। क्योंकि उन्होंने लोगों के कोई काम नहीं किए हैं। यही नहीं उन्होंने कहा कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा को केवल सत्ता चाहिए और इसी सत्ता के लिए 1977 से 1980 तक भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कांग्रेस को अलविदा कहते हुए रेड्डी कांग्रेस ज्वाइन कर ली थी। अगर इसे कोई गलत साबित कर दे तो राजनीति से इस्तीफा दे देंगे।

 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भीबस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

Related Story

Trending Topics

India

178/10

18.3

South Africa

227/3

20.0

South Africa win by 49 runs

RR 9.73
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!