कारोबारी का किडनेप कर लूटपाट के तीन आरोपी काबू

Edited By Pawan Kumar Sethi, Updated: 26 Jun, 2022 08:55 PM

fake police personal arrested with two for kidnapping man

सेक्टर 40 क्षेत्र में पुलिस बनकर दो कारोबारी का किडनेप कर लूटपाट किए जाने के मामले में पुलिस ने तीन युवकों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों स्विफ्ट कार व 30 सीपीयू व 11500 रुपयों की नकदी बरामद की है। पुलिस ने आरोपियों का अदालत में पेश...

गुड़गांव, (पवन कुमार सेठी): सेक्टर 40 क्षेत्र में पुलिस बनकर दो कारोबारी का किडनेप कर लूटपाट किए जाने के मामले में पुलिस ने तीन युवकों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों स्विफ्ट कार व 30 सीपीयू व 11500 रुपयों की नकदी बरामद की है। पुलिस ने आरोपियों का अदालत में पेश कर रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।  

गुरुग्राम की खबरों के लिए इस लिंक https://www.facebook.com/KesariGurugram पर क्लिक करें।


यूपी के अलीगढ़ मूल का मनीष कुमार यहां दिल्ली के जौहरीपुर में किराए पर रहता है। उसका अपना कारोबार है, जिसमें संदीप कुमार भी पार्टनर है। आरोप है कि बीती 21 जून को मनीष को किसी ने फोन करके दस प्रोसेसर की मांग की। जिसके बाद संदीप ये प्रोसेसर लेकर गुडग़ांव के हुडा सिटी सेंटर पहुंचा। यहां उसे जसविन्द्र नाम का युवक मिला और उसने प्रोसेसर लेकर 14 हजार रुपये का भुगतान कर दिया। इसके बाद 22 जून को उसी नंबर से फोन दोबारा आया और इस बार 150 प्रोसेसर और 150 रैम की डिमांड की गई। वहीं मनीष के खाते में पांच हजार रुपये भी बतौर एडवांस ट्रांस्फर किए गए। जिसके बाद मनीष व संदीप 23 जून की रात बाइक से सामान लेकर हुडा सिटी सेंटर पहुंचे। जहां जसविन्द्र कार से पहले ही पहुंचा हुआ था। जसविन्द्र ने उनसे सामान की गिनती करने को कहा। दोनों सामान की गिनती कर ही रहे थे, इसबीच तीन अन्य युवक भी वहां आ गए। सामान पूरा होने के बाद उसे कार में रख लिया गया। उन्होंने बाकी पैसे देने के लिए मनीष व संदीप को डपटकर कार में बैठा लिया। कुछ दूर चलने के बाद उन्होंने मारपीट कर दोनों से मोबाइल छीन कर एक-एक करके उतार दिया और फरार हो गए। पीड़ित कारोबारी की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरु कर दी।


जिसके बाद सेक्टर-40 थाना प्रभारी इंस्पेक्टर सतीश व पी/एसआई गौरव की टीम ने तीनों आरोपियों को काबू कर लिया। आरोपियों की पहचान 28 वर्षीय जसविन्द्र, 30 वर्षीय आवेश उर्फ अवि व 27 वर्षीय नवीन उर्फ शब्द उर्फ गोलू, के रूप में हुई। पुलिस ने जसविन्द्र को सिरसा से तथा आवेश व नवीन को नेहरू पैलेस, दिल्ली से काबू किया। जसविन्द्र को 7 दिन के तथा आरोपी आवेश व नवीन को 4 दिन के पुलिस हिरासत रिमांड पर लिया गया।

 

राजस्थान जेल में हुई थी दोस्ती:
आरोपियों से पूछताछ में बताया कि जसविन्द्र टैक्सी चलाने का काम करता है और हनी ट्रैप के एक केस में बहरोड़ जेल (राजस्थान) में बंद रहा है। जबकि आवेश व नवीन ने जौहर नगर, दिल्ली में कंप्यूटर का समान बेचने व खरीदने की दुकान की हुई है और ये जरनेटर चोरी के मामले में बहरोड़ जेल (राजस्थान) में बंद रहे है। जेल में ही इनकी आपस में दोस्ती हुई थी। 

 

दिल्ली से खरीदी पुलिस की वर्दी:
आरोपियों ने वारदात को अंजाम देने के लिए जीटीबी नगर, दिल्ली से 1500 रुपयों में दिल्ली पुलिस की वर्दी खरीदी। तथा अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर लूट की वारदात को अंजाम दिया। वारदात को अंजाम देने में प्रयोग की गई वैगनार कार को एक अन्य साथी लेकर आया था। लूटे गए समान को इन्होंने आगरा में 1 लाख 80 हजार रुपयों में बेच दिया था। रुपयों से इन्होंने दिल्ली नेहरू पैलेस से 30 सीपीयू खरीद लिए तथा इनके पास 11500 रुपए बकाया बच गए।

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!