पंचकूला को ड्रग फ्री बनाने के लिए कोशिश हुई तेज, जानिए क्या है सरकार का प्लान

Edited By Vivek Rai, Updated: 25 May, 2022 09:48 PM

efforts were made to make panchkula drug free know government s plan

विधान सभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने अपने जन्मदिन के अवसर पर पंचकूला की तस्वीर बदलने का संकल्प लिया है। 7 सरोकारों के फार्मूले के तहत पंचकूला को 7 चीजों से मुक्त रखने का निर्णय लिया गया है। इनमें शहर को अतिक्रमण, स्लम, स्ट्रे कैटल, स्ट्रीट डॉग,...

चंडीगढ़(धरणी): विधान सभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने अपने जन्मदिन के अवसर पर पंचकूला की तस्वीर बदलने का संकल्प लिया है। 7 सरोकारों के फार्मूले के तहत पंचकूला को 7 चीजों से मुक्त रखने का निर्णय लिया गया है। इनमें शहर को अतिक्रमण, स्लम, स्ट्रे कैटल, स्ट्रीट डॉग, ड्रग, प्रदूषण और प्लास्टिक से मुक्त करने का संकल्प आज एक बार फिर दोहराया गया है। विस अध्यक्ष ने कहा कि इन 7 सरोकारों को सिरे चढ़ाने के लिए जनता का सहयोग जरूरी है। ये कार्य सिर्फ प्रशासनिक कार्रवाई से नहीं बल्कि जनसहभागिता से ही संभव है। उन्होंने कहा कि ये सातों सरोकार शहरवासियों की जीवनशैली की गुणवत्ता बढ़ाने के साथ-साथ विकास का इंजन भी साबित होंगे। शहर में सदाबहार स्वच्छता कायम करने के उद्देश्य से इस पूरी योजना का खाका तैयार करना होगा।

उन्होंने कहा कि गत 7 वर्षों में सरकार ने पंचकूला में कई खास प्रोजेक्ट शुरू किए हैं। यहां हो रहे व्यापक विकास का लाभ लोगों को तभी मिल सकेगा, जब शहर के विकास में उनकी प्रत्यक्ष भागीदारी बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि शहर को अतिक्रमण, स्लम, स्ट्रे कैटल, स्ट्रीट डॉग, ड्रग, प्रदूषण, प्लास्टिक से मुक्त करने के लिए बड़ा सामाजिक अभियान चलाना होगा। इसमें स्वयंसेवी संस्थाओं, रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन्स, विद्यार्थियों, शिक्षाविदों, सामाजिक कार्यकर्ताओं का सहयोग जरूरी है। इसके साथ शहर के प्रत्येक नागरिक को इस अभियान से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा। इसके लिए उन्होंने यहां पूर्व में चलाए गए राहगिरी अभियान की जानकारी भी अधिकारियों को दी।

गुप्ता के मुताबिक इन 7 सरोकारों को पूरा करने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों को अतिरिक्त काम करना पड़ा सकता है। बैठक के दौरान शहर के कुछ स्थानों पर जारी अतिक्रमण न हटाए जाने पर उन्होंने अधिकारियों को फटकार भी लगाई। विस अध्यक्ष ने कहा कि ऐसे सभी मामलों का ब्योरा 3 दिन के भीतर उन्हें उपलब्ध करवाया जाएं। इसमें पुलिस को यह भी बताना होगा कि इन मामलों में क्या-क्या कार्रवाई हुई।

नशे को लेकर बेहद गंभीर दिखे विधानसभा अध्यक्ष

पंचकूला को स्वच्छ-सुंदर और हरा-भरा बनाने के संकल्प के साथ हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष एवं पंचकूला विधायक ज्ञानचंद गुप्ता ने बुधवार को अपना जन्मदिन अपने निवास पर ही मनाया। सुबह से देर रात तक गुप्ता को बधाई देने के लिए शुभचिंतकों का तांता लगा रहा। इस मौके पर गुप्ता ने पंचकूला वासियों के प्यार- स्नेह, समर्थन और आशीर्वाद के लिए उनका धन्यवाद करते हुए कहा कि वह पंचकूला को प्लास्टिक, प्रदूषण, ड्रग, पॉलिथीन, अतिक्रमण, स्ट्रे कैटल, स्ट्रे डॉग से मुक्त बनाने को लेकर संकल्पबद्ध हैं। जन्मदिन के अवसर पर पंचकूला को इनसे आजाद करवाने के लिए इसका संकल्प लिया है। गुप्ता ने कहा कि पंचकूला के नए उपायुक्त के साथ बैठक करके पंचकूला को ड्रग फ्री बनाने के लिए एक स्पेशल अभियान चलाया जाएगा। हमने अपने पड़ोसी राज्यों के साथ लगते क्षेत्रों पर अपनी सिक्योरिटी और इंटेलिजेंस को और सुदृढ़ करने के भी आग्रह किए हैं। पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों से नशे को जड़ मूल से खत्म करने का भी सहयोग मांगा है। गुप्ता ने कहा कि हम लोगों को नशे से संबंधित जागरूकता को लेकर लगातार नुक्कड़ नाटक इत्यादि मुख्य बाजारों में करवा रहे हैं। नशा एक परिवार को किस प्रकार से बर्बाद कर देता है, हम लगातार जागरूकता अभियान चला रहे हैं और हम विद्यार्थियों को नशे से दूर रहने के संदेश के साथ एक बड़ा अभियान आगामी दो-तीन दिन में चलाने वाले हैं और हम इस लड़ाई को आगे भी लड़ते रहेंगे।

देश के 10 स्वच्छ व सुंदर शहरों में पंचकूला को शुमार करवाना मेरी आंतरिक इच्छा- गुप्ता

गुप्ता ने कहा कि मेट्रोपॉलिटन सिटी के स्वागत के लिए जिस प्रकार से पंचकूला जिले के लोग आगे आए और जिस प्रकार से नागरिकों का उत्साह देखने को मिला, यह वास्तव में हमारे लिए उत्साहवर्धक है। आज पंचकूला में पूरे प्रदेश के मुकाबले जिस प्रकार से संपत्तियों के रेट बड़े हैं, मेडिकल कॉलेज, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी समेत बड़े-बड़े प्रोजेक्ट फिल्म सिटी और मोरनी के विकास के लिए मुख्यमंत्री द्वारा 100 करोड़ रुपए की राशि दिया जाना यह निश्चित करता है कि पंचकूला आने वाले समय में विकास की ओर अधिक गति पकड़ने वाला है। कुछ ही समय में पंचकूला देश के पहले 100 शहरों में शुमार होगा, इसमें कोई दो राय नहीं है। लेकिन मेरी आंतरिक इच्छा इसे 10 शहरों में शामिल करने की है। हम इसके लिए ना केवल शासन-प्रशासन बल्कि शिक्षण संस्थान, गैर सरकारी संगठन, औद्योगिक संगठन, धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं समेत आमजन को साथ लेकर आगे बढ़ेंगे।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

Related Story

Trending Topics

India

179/5

20.0

South Africa

131/10

19.1

India win by 48 runs

RR 8.95
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!