फन टाउन वाटर पार्क में बड़ा हादसा: झूला टूटने से 3 मासूम बच्चे घायल, मौके पर नहीं मिली एम्बुलेंस

Edited By Isha, Updated: 02 Jun, 2022 08:45 AM

3 innocent children injured due to breaking of the hammock

बहादुरगढ़ के फन टाउन वाटर पार्क में झूला टूटने से एक ही परिवार के तीन मासूम बच्चे गंभीर रूप से घायल हो गए। तीनों बच्चों के सिर, हाथ और पैरों में गंभीर चोट आई है। गंभीर हालत में बच्चों को बहादुरगढ़ के डीडीके हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है। जहां...

बहादुरगढ़(प्रवीण धनखड़): बहादुरगढ़ के फन टाउन वाटर पार्क में झूला टूटने से एक ही परिवार के तीन मासूम बच्चे गंभीर रूप से घायल हो गए। तीनों बच्चों के सिर, हाथ और पैरों में गंभीर चोट आई है। गंभीर हालत में बच्चों को बहादुरगढ़ के डीडीके हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है। जहां उनकी हालत अब भी चिंताजनक बनी हुई है। बच्चों की चोट गहरी होने के कारण टांके भी आए हैं। हादसे के बाद वाटर पार्क प्रबंधन की बड़ी लापरवाही भी सामने आई है। बताया जा रहा है की हादसा होते ही वाटर पार्क की कर्मचारी मौके से भाग खड़े हुए। घायल मासूमों को ना तो मौके पर एंबुलेंस और चिकित्सा सहायता मिली और ना ही सेफ्टी उपकरण। 

दिल्ली के राजौरी गार्डन रहने वाले श्रीकांत और उसकी बहन का परिवार बहादुरगढ़ के आसौदा गांव स्थित फन टाउन वाटर पार्क में मौज मस्ती करने पहुंचा था। बच्चों ने वॉटर राइड का खूब लुफ्त उठाया और बाद में बच्चे झूले झूलने लगे। जब बहुत सारे बच्चे एक टॉय ट्रेन वाले झूले पर सवार हुए तो अचानक से झूले की स्पीड बढ़ गई। जिसकी वजह से टॉय ट्रेन वाले झूले के पीछे लगे दो डिब्बे टूट कर दूर जा गिरे। इसके नीचे दबने से कई बच्चों को चोटें आई। जिनमें से तीन बच्चे एक ही परिवार के हैं। 

PunjabKesari

मौके से भागे वाटर पार्क के कर्मचारी
हैरानी की बात की है कि हादसे के तुरंत बाद वाटर पार्क के कर्मचारी मौके से भाग खड़े हुए। परिजनों ने बताया कि उन्होंने बच्चों को अस्पताल पहुंचाने के लिए प्रबंधन से गुहार लगाई। लेकिन कोई भी कर्मचारी उनका साथ देने के लिए तैयार नहीं हुआ। मौके पर ना तो बच्चों को फर्स्टऐड दी गई और ना ही किसी तरह की एंबुलेंस वहां तैनात थी। सेफ्टी उपकरण भी मौके पर नहीं मिले। बाद में वाटर पार्क में घूमने आए अन्य परिवारों ने बच्चों को अस्पताल पहुंचाया।

PunjabKesari

हाथ और पैरों में गंभीर चोटें आई
तीनों बच्चों के हाथ और पैरों में गंभीर चोटें आई हैं। बच्चों को गहरी चोट के कारण टांके भी लगाए गए हैं। बच्चों के साथ अचानक हुए हादसे के कारण बच्चे अभी सदमे में और दर्द से परेशान है। वाटर पार्क प्रबंधन की लापरवाही के कारण हुए हादसे की शिकायत परिजनों ने ट्विटर के जरिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर स्थानीय प्रशासन को की। जिसके बाद एसडीएम भूपेंद्र सिंह ने देर रात अस्पताल पहुंचकर बच्चों का हालचाल जाना और पुलिस ने भी मामले की जांच शुरू की। 

PunjabKesari

सख्त कार्रवाई करने की मांग
एसडीम भूपेंद्र सिंह का कहना है कि वाटर पार्क चलाने की परमिशन, फायर एंड सेफ्टी उपकरण और पोलूशन सर्टिफिकेट की जांच की जाएगी। वही हादसे के कारण कभी पता लगाने की कोशिश की जाएगी। वहीं हादसे के बाद घायल मासूमों के प्रति वाटर पार्क प्रबंधन के उदासीन रवैया की भी एसडीएम ने निंदा की है।  परिजनों ने हादसे के के दोषी वाटर पार्क प्रबंधन के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने और बच्चों को उचित इलाज मुहैया करवाने की मांग सरकार और पुलिस प्रशासन से की है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!