हरियाणा विधानसभा होगी पेपरलेस, विधायकों और मंत्रियों ने डिजिटलाइजेशन का किया स्वागत

Edited By Isha, Updated: 21 Jul, 2022 10:51 PM

haryana assembly will be paperless mlas and ministers welcome digitization

डिजीटली ज्ञान के लिए आयोजित इस प्रत्यक्ष कक्षा में संसदीय कार्य मंत्री और नेता प्रतिपक्ष समेत प्रदेश सरकार के 11 मंत्री और 43 विधायकों ने  ई-विधान एप्लिकेशन (नेवा) की बारीकियां सीखीं।

चंडीगढ़(चंद्रशेखर धरणी): पंचकूला के पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस का ऑडिटोरियम वीरवार को माननीयों की कक्षा नजर आया। इस कक्षा में कार्य पालिका के मुखिया मुख्यमंत्री और विधायिका के प्रमुख विस अध्यक्ष तक पेपरलेस विधान सभा के गुर सीखते नजर आए। डिजीटली ज्ञान के लिए आयोजित इस प्रत्यक्ष कक्षा में संसदीय कार्य मंत्री और नेता प्रतिपक्ष समेत प्रदेश सरकार के 11 मंत्री और 43 विधायकों ने  ई-विधान एप्लिकेशन (नेवा) की बारीकियां सीखीं।  संसदीय कार्य मंत्रालय की ओर से नेवा कॉर्डिनेटर अर्पित त्यागी और नेवा परियोजना प्रबंधक समीर वार्षणे ने विधायकों को प्रशिक्षित किया। इस दौरान हाउस में लगने वाले टैब का लाइव डैमोस्ट्रेशन भी किया गया।

विधायकों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला का हुआ आयोजन

हरियाणा विधान सभा की ओर से विधायकों के लिए आयोजित प्रशिक्षण कार्यशाला के शुभारंभ अवसर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने जीवन के अनेक उदाहरण देते हुए नई तकनीक सीखने के लिए प्रेरित किया। विधान सभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने आगामी मानसून सत्र को डिजिटल माध्यम से चलाने का संकल्प दोहराया। गुप्ता ने कहा कि गत 2 वर्षों से विधान सभा को पेपरलेस करने की तैयारियां अब फलीभूत होने को हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा के डिजीटिलाइजेशन की प्रक्रिया लोकतंत्र के सुदृढ़ीकरण में मील का पत्थर होगी। उन्होंने कहा कि मानसून सत्र से पहले सदन में मॉक सत्र का भी आयोजन किया जाएगा।

2 साल पहले विधानसभा को पेपरलेस बनाने के लिया गया था संकल्प

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की डिजिटल इंडिया मुहिम के तहत विधान सभा को पेपरलेस किया जा रहा है। लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला का भी इसके लिए काफी आग्रह रहता है। गुप्ता ने कहा कि 21-22 जनवरी 2020 में हरियाणा विधान सभा की ओर से विधायकों के लिए आयोजित ओरिएंटेशन कार्यक्रम में लोकसभा अध्यक्ष ने पेपरलेस विधान सभा बनाने के लिए प्रेरित किया था। उन्होंने तभी विधान सभा को पेपरलेस करने का संकल्प ले लिया था। इस परियोजना में केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्रालय का सहयोग भी सराहनीय रहा है। कुल 8.53 करोड़ की इस परियोजना में केंद्र और राज्य सरकार 60:40 के अनुपात में खर्च का वहन कर रही है। इसके लिए विस अध्यक्ष ने दोनों सरकारों का भी आभार प्रकट किया।

शुक्रवार को विभिन्न विभागों के नोडल अधिकारियों को दिया जाएगा प्रशिक्षण

उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण के पहले दिन विधायकों के लिए तथा दूसरे दिन शुक्रवार को हरियाणा सरकार के विभिन्न विभागों के नोडल अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि डिजीटलाइजेशन के बाद विधानसभा सचिवालय सदन की कार्यवाही जिसमें कार्यसूची, नोटिस, बुलेटिन, विधेयक, तारांकित और अतारांकित प्रश्न तथा उनके जवाब, पटल पर रखे जाने वाले दस्तावेज, विभिन्न कमेटियों की रिपोर्ट इत्यादि सभी कार्य बिना कागज का प्रयोग किए प्रभावी ढ़ग से किए जा सकेंगे। इसके साथ ही विधायकों के लिए उपयोगी तथ्य तथा नियमावली समेत अनेक प्रकार की जानकारी डिजीटल माध्यम से प्राप्त हो सकेगी।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!