डेरा प्रमुख की पैरोल को हाईकोर्ट में चुनौती देंगे अंशुल छत्रपति, बोले- संगीन अपराधी है राम रहीम

Edited By Vivek Rai, Updated: 17 Jun, 2022 09:44 PM

anshul chhatrapati will challenge dera chief ram rahim s parole in high court

डेरा प्रमुख राम रहीम को आज 30 दिन की पैरोल मिलने पर पत्रकार स्व. रामचंद्र छत्रपति के बेटे अंशुल छत्रपति ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है। उन्होंने डेरा प्रमुख को दी गई पैरोल का विरोध करते हुए इस पैरोल को लेकर सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा...

सिरसा(सतनाम): डेरा प्रमुख राम रहीम को आज 30 दिन की पैरोल मिलने पर पत्रकार स्व. रामचंद्र छत्रपति के बेटे अंशुल छत्रपति ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है। उन्होंने डेरा प्रमुख को दी गई पैरोल का विरोध करते हुए इस पैरोल को लेकर सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि राम रहीम बलात्कार और हत्या के मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में सजा काट रहा है। राम रहीम एक अपराधी किस्म का कैदी है तो उसे सरकार द्वारा बेनिफिट क्यों दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस फैसले के खिलाफ वे जल्द ही पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर करेंगे। अंशुल छत्रपति ने बताया कि वे इस मामले को लेकर अपनी लीगल टीम से विचार विमर्श कर रहे हैं।

अंशुल छत्रपति का आरोप, सियासी फायदे के दी जाती है राम रहीम को पैरोल

PunjabKesari

अंशुल छत्रपति ने कहा कि राम रहीम को जेल से बाहर निकालना गलत है क्योंकि वे कई मामलों में सजा काट रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने अपने फायदे के लिए राम रहीम को पैरोल दी है, जिसका वे विरोध करते है। उन्होंने कहा कि 2017 में डेरा अनुयायियों द्वारा हिंसक घटनाओं को अंजाम दिया गया था, जिसमें काफी लोगों की मौत भी हुई थी और हरियाणा प्रदेश में अरबों रुपए की सरकारी और गैर सरकारी प्रॉपर्टी का नुकसान हुआ था। अंशुल ने कहा कि इससे पहले भी जब डेरा प्रमुख ने पेरोल लगाई तो जिला सिरसा प्रशासन ने हर बार सुरक्षा का हवाला दिया था। उनके बाहर आने से ला एन्ड ऑर्डर को खतरा है और इससे दंगे तक भड़क सकते हैं। इसलिए अब ये नया तरीका रच कर उन्हें पैरोल दी गई है। उन्होंने कहा कि सियासत का यह खेल बंद होना चाहिए।

कानून के हिसाब से संगीन अपराधी को पैरोल नहीं मिलती- छत्रपति

अंशुल छत्रपति ने कहा कि राम रहीम सामान्य अपराधी नहीं है लेकिन सरकार बार-बार राम रहीम को सामान्य अपराधी ही बता रही है। उन्होंने कहा कि सरकार राम रहीम को सामान्य कैदियों की श्रेणी में न रखे। राम रहीम के बाहर रहने से कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है जिसकी जिम्मेवारी सरकार की होगी। उन्होंने कहा कि राम रहीम एक संगीन अपराधी है और कानून के हिसाब से संगीन अपराधी को पैरोल नहीं दी जा सकती है। अंशुल छत्रपति ने सरकार की नीयत पर सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार अपने फायदे के लिए राम रहीम की मदद कर रही है। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार राम रहीम की मदद करने से बाज आए क्योंकि राम रहीम एक संगीन अपराधी है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भीबस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

 

 

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

284/10

378/3

India

416/10

245/10

England win by 7 wickets

RR 4.63
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!