शैलजा-हुड्डा के कुशल नेतृत्व के कारण कांग्रेस ने जीती थी 31 सीटें :अशोक अरोड़ा

Edited By Isha, Updated: 06 May, 2022 03:28 PM

congress won 31 seats due to shailaja hooda s efficient leadership

हरियाणा कांग्रेस द्वारा 2019 विधानसभा चुनाव में भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कुमारी शैलजा के नेतृत्व में 31 सीटें जीतना कुशल नेतृत्व का नतीजा था। किसी भी राजनीतिक दल के संगठन में बदलाव एक रनिंग प्रोसेस है और कुमारी शैलजा पक्के कांग्रेसियों में से एक

चंडीगढ़(चंद्रशेखर धरणी): हरियाणा कांग्रेस द्वारा 2019 विधानसभा चुनाव में भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कुमारी शैलजा के नेतृत्व में 31 सीटें जीतना कुशल नेतृत्व का नतीजा था। किसी भी राजनीतिक दल के संगठन में बदलाव एक रनिंग प्रोसेस है और कुमारी शैलजा पक्के कांग्रेसियों में से एक हैं। पूरे परिवार ने कांग्रेस की सेवा की है। उन्होंने पहले भी बहुत अच्छा काम किया और आगे भी उनका सहयोग मिलता रहेगा। यह कहना है पूर्व मंत्री पूर्व विधानसभा स्पीकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक अरोड़ा का। उन्होंने कहा कि नवनियुक्त प्रदेशाध्यक्ष उदयभान बेहद पुराने नेता हैं। 1987 में पहली बार विधायक जीत कर आए थे। तीन बार हसनपुर और एक बार होडल से विधायक रहे और ना केवल राजनीतिक बल्कि उन्हें संगठन का भी बहुत पुराना तजुर्बा है। वह कांग्रेस कमेटी के जिलाध्यक्ष की जिम्मेदारी निभा चुके हैं। इसलिए उनके अनुभव का बहुत फायदा कांग्रेस पार्टी को होने वाला है। पूरे प्रदेश में इस फैसले का स्वागत किया जा रहा है। दिल्ली से ताजपोशी के बाद चंडीगढ़ पहुंचने तक रोड शो में जिस प्रकार से पूरे प्रदेश के युवा सड़कों पर उमड़े, इससे तय हो गया कि प्रदेश की जनता बड़ा बदलाव चाह रही है और प्रदेश कांग्रेस में आज किसी प्रकार की गुटबाजी नहीं है। सारी कांग्रेस एक होकर इस तानाशाही- भ्रष्टाचारी सरकार के खिलाफ लड़ाई लड़ेगी।

संगठनात्मक बदलाव से नाराज हुए बिश्नोई के ट्वीट पर अरोड़ा ने कहा कि बड़े संगठन में छोटा-मोटा मनमुटाव स्वाभाविक है। कुलदीप बिश्नोई एक वरिष्ठ साथी हैं और उन्होंने हाईकमान के सामने अपनी दिक्कत रखने की बात कही है और मेरा मानना है कि हाईकमान उनके दिक्कत को दूर करेगा। वहीं उन्होंने भूपेंद्र सिंह हुड्डा के 10 साल से मुख्यमंत्री के कार्यकाल के दौरान हुए विकास कार्यों और रोजगार के साधन उत्पन्न करने का लाभ भी कांग्रेस को मिलने की बात कही है। उन्होंने कहा कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा के कार्यकाल के दौरान कभी कोई जाति या धार्मिक झगड़े नहीं हुए। सबको समान अधिकार दिए गए। आज जनता उनके कार्यकाल को याद कर रही है। बढ़ती बेरोजगारी, महंगाई की मार, लगातार हो रहे घोटाले, भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों के खिलाफ कार्यवाही ना करना, दुकानदारों को गोलियां मारी जा रही है और हर शहर में मांगी जा रही फिरौतियों के कारण आज प्रदेश की जनता बदलाव मांग रही है। इंतजार कर रही है कि चुनाव कब होंगे और विकल्प मात्र प्रदेश में कांग्रेस पार्टी है।

करोड़ों की रिश्वत के साथ अधिकारी पकड़े जाने के बावजूद यह लोग सरकार को ईमानदार बताते हैं
अरोड़ा ने प्रदेश सरकार की कार्यशैली पर उंगली उठाते हुए कहा कि राजीव गांधी के एक रुपए में से 15 पैसे लगाने के बयान पर यह लोग कहते हैं कि आज एक रुपए में से एक रुपया विकास कार्य में लगता है जो बेहद हैरान कर देने वाली बात है।मुख्यमंत्री के शहर में तहसीलदार और डीटीपी सैकड़ों करोड़ की प्रॉपर्टी के मालिक पाए गए। एचपीएससी के दफ्तर में करोड़ों रुपए के साथ एक अधिकारी पकड़ा गया। सभी परीक्षाएं रद्द करनी पड़ रही है और यह लोग भ्रष्टाचार मुक्त सरकार की बात करते हैं।परीक्षाएं रद्द होने का सीधा असर विद्यार्थियों के जीवन पर पड़ता है। लेकिन सरकार को कोई चिंता नहीं है।

 

 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!