होंडा मोटर्स के सहयोग से बनेंगे पुलिस बूथ

  • होंडा मोटर्स के सहयोग से बनेंगे पुलिस बूथ
You Are HereHaryana
Friday, April 21, 2017-3:52 PM

चंडीगढ़ (पांडेय):हरियाणा पुलिस महानिदेशक डॉ. के.पी. सिंह ने कहा कि हरियाणा पुलिस राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-1 पर पहले ही हर 10 किलोमीटर की दूरी पर पुलिस सहायता केंद्र स्थापित कर चुकी है। इन केंद्रों में एम्बुलैंस व पुलिसकर्मी 24 घंटे उपस्थित रहते है। उन्होंने बताया कि आगामी वित्त वर्ष के दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8, 73 पर भी ऐसे केंद्र स्थापित किए जाएंगे। 

उन्होंने कहा कि सड़क दुर्घटना के पीड़ितों को पहले एक घंटा जो गोल्डन ऑवर होता है, उस दौरान निकटतम अस्पताल में पंहुचाना प्राथमिकता होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि देश में प्रतिदिन बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं को देखते हुए सर्वोच्च न्यायालय के राष्ट्रीय राजमार्गों से 500 मीटर की दूरी पर शराब के ठेके खोलने के आदेशों की अनुपालना में हरियाणा पुलिस ने राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 व 8 पर 25 पुलिस सहायता बूथ खोलने की पहल की है। इस कड़ी में आज होंडा मोटर साइकिल एंड स्कूटर के साथ एक समझौते ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। 

हरियाणा पुलिस की ओर से पुलिस महानिदेशक डॉ. के.पी. सिंह, होंडा मोटर की ओर से निदेशक सामान्य एवं कार्पोरेट मामले के हरभजन सिंह ने आज यहां निकट पंचकूला में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।  पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि इन केंद्रों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, एटोमैटिक नंबर प्लेट रीडिंग कैमरे भी लगाए जाएंगे, ताकि निर्धारित गति सीमा से अधिक स्पीड से चलाए जाने वाले वाहनों पर नजर रखी जा सके। 

पुलिस महानिदेशक डा. के.पी. सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-1 पर सोनीपत, पानीपत, करनाल, कुरुक्षेत्र व अम्बाला जिलों में स्थापित किए गए पुलिस सहायता केंद्रों की वजह से गत वर्ष पुलिस 40 जाने बचाने में सफल रही। इसके अतिरिक्त, 1100 से अधिक घायलों को समय पर अस्पताल पहुंचाया गया। पुलिस महानिरीक्षक शिबास कविराज ने बताया कि गत वर्ष हरियाणा में 11234 सड़क दुर्घटनाएं हुई, जिनमें 5024 मौतें हुई तथा 10531 व्यक्ति घायल हुए। 

प्रदेश में चल रहा है ऑप्रेशन दुर्गा 
डी.जी.पी. ने कहा कि ऑप्रेशन दुर्गा लगातार प्रदेश में चल रहा है। महिला पुलिस थानों के खुलने के बाद से बाजारों, कॉलेजों के आस-पास पैट्रोलिंग की जा रही है। उन्होंने बताया कि बुधवार को ही वीडियो कांफ्रैंसिंग के जरिए सभी जिलों में निर्देश दिए गए हैं कि पैट्रोलिंग की जाए, अगर कोई घटना हो तो उसके खिलाफ कार्रवाई करें और इस ऑप्रेशन को इफैक्टिव बनाएं।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!