17 साल पहले लगी थी आग, आज भी सहमे रहते हैं लोग

  • 17 साल पहले लगी थी आग, आज भी सहमे रहते हैं लोग
You Are HereSonipat
Wednesday, October 18, 2017-6:26 PM

सोनीपत: दीपावली को लेकर लोगों में जहां खुशी और हर्ष का माहौल बन रहा है। वहीं सोनीपत की एक जगह ऐसी भी है जहां लोग अपने मन भय रखते हुए दिवाली मनाते हैं। दीपावली दीपों का त्यौहार है रोशनी का त्यौहार है लेकिन सोनीपत में दीपावली के दिन हुए दर्दनाक हादसे के कारण सोनीपत के कच्चे क्वाटर के लोग दीपावली की चमक-धमक से डरते हैं।

साल 1999 में दीपावली के दिन सोनीपत के कच्चे क्वाटर बाजार में आग लग गई थी। जिसमें 49 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी। तंग गलियों और दुकानों के बाहर अतिक्रमण के कारण दमकल विभाग की गाडिय़ां भी आग बुझाने नहीं पहुंच सकी थी। इतने साल बीत जाने के बाद भी हालत नहीं सुधर पाए। आज दुकानों की संख्या पहले से दोगुणा हो चुकी है पहले से ज्यादा लोग इस बाजार में शॉपिंग करने आते है गलियां पहले से तंग है प्रशासन के पास लोगों की सुरक्षा को लेकर कोई जवाब नहीं है अगर आज यहां कोई हादसा हो जाता है तो किस तरह लोगों की मदद की जाए।

रेलवे स्टेशन के पास कच्चे क्वाटर बाजार में 17 साल पहले दीपावली के दिन गुलशन क्रॉकरी की दुकान के बाहर शॉर्ट-सर्किट से आग लगी। देखते ही देखते आग ने कई दुकानों को अपनी चपेट में ले लिया। अकेले गुलशन क्रॉकरी की दुकान पर आग में झुलसने से करीब तीन दर्जन लोगों की मौत हो गई थी। वहीं बाजार में शॉपिंग करने आये 49 लोगों जिंदा जल गए।

वही फायर ब्रिगेड अधिकारी हरिसिंह  सैनी का कहना है कि उन्होंने लोगों को इस बारे जागरूक किया है। साथ ही लोगों को अपनी सुरक्षा का ध्यान रखने के लिए भी प्रेरित किया है। और पुलिस भी ऐसी जगहों पर पूरी तरह से मुस्तैद है। दमकल विभाग के अधिकारी का कहना है कि तंग गलियों के लिए एक फायर ब्रिगेड की एक छोटी गाड़ी का प्रबंध किया गया है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You