पत्नी को मरवाने के लिए रची लूट की साजिश, जांच में हुआ खुलासा

  • पत्नी को  मरवाने के लिए रची लूट की साजिश, जांच में हुआ खुलासा
You Are HereHaryana
Thursday, January 11, 2018-7:12 PM

टोहाना: कार से पंजाब के गांव बंगा लौट रहे रहे दंपती को घेर कर लूटने के बाद गर्भवती महिला को गोली मारे जाने के मामले में बड़ा खुलासा सामने आया है। इस घटना के पीछे पति का ही हाथ निकला। आरोपी खुद से दो साल बड़ी पत्नी को पसंद नहीं करता था ऐसे में उसने अपने ही दो दोस्तों के साथ मिलकर पत्नी को जान से मारने की साजिश रची। 

इस घटना में गर्भवती महिला के पेट में पल रहे सात माह के बच्चे की मौत हो गई थी जबकि वह   हिसार के अस्पताल में उपचाराधीन है। पुलिस जांच में आरोपी अपनी ही बातों में फंस गया, जिसके बाद पूरी साजिश का खुलासा हुआ। पुलिस ने आरोपी पति समेत घटना को अंजाम देने वाले दोनों दोस्तों को काबू कर लिया है। एसएसपी मनदीप सिंह ने बताया कि शुरूआती जांच में सामने आया है कि संदीप सिंह (22) निवासी बंगा बीए तृतीय वर्ष का छात्र है। जिसकी शादी 14 फरवरी, 2017 को गांव रत्ताखेड़ा की रिंपू के साथ हुई थी। संदीप के अनुसार उसकी पत्नी की उम्र उससे दो साल अधिक थी जिसे वह पसंद नहीं करता था। ऐसे में संदीप ने अपने दोस्त रजत और सुरिंद्र शर्मा निवासी मूनक के साथ मिलकर पत्नी को मार देने की साजिश रच दी।

पति ने कबूला जुर्म
योजना के अनुसार 5 जनवरी की शाम को संदीप अपनी पत्नी रिंपू को कार पर मायके से ला रहा था तो मूनक में घग्गर पुल के पास संदीप ने कार रोक ली थी। जहां उसके दोनों दोस्त मोटर साइकिल पर पहुंच गए और योजना के अनुसार उन्हें घेर लिया। उसकी पत्नी से 10 हजार रुपये और संदीप के पर्स से 8 हजार रुपये और दूसरा सामान लूट कर उसकी पत्नी के पेट में गोली मार दी थी। घटना के बाद दोनों फरार हो गए थे। संदीप ने पुलिस के समक्ष माना है कि पेट में गोली लगने के बाद पत्नी की मौत नहीं हुई तो वह घायल पत्नी को धीमे गति कार से टोहाना की तरफ चल दिया ताकि खून बहने से उसकी मौत हो जाए। टोहाना में संदीप उसे निजी अस्पताल में ले गया।  

संदीप के थे कई लड़कियों से संबंध 
घायल रिंपू के भाई सिकंदर सिंह का कहना है कि संदीप के कई लड़कियों से संबंध थे। वह लोफर किस्म का लड़का है परंतु संदीप ने इस बात का किसी को पता नहीं लगने दिया। संदीप ने उसकी बहन को मारने की पूरी योजना बनाई थी परंतु किस्मत से उसकी बहन बच गई है। 

अपने ही जाल में फंसा संदीप 
5 जनवरी को आरोपी संदीप ने पुलिस को लूट का ड्रामा सुना दिया। मामले में एसपी डी हरमीत सिंह हुंदल की अगुवाई में डीएसपी मूनक और एसएचओ मूनक की एसआईटी का गठन किया गया। जांच में पुलिस ने संदीप सिंह से बात की तो आरोपी अपनी बातों में फंसता चला गया। संदीप ने पुलिस को बताया कि वह रास्ते में सिगरेट पीने के लिए रूक गया था। उसने बताया कि आरोपियों ने उसे ड्राइवर सीट पर बैठाकर उसकी पत्नी के पेट में गोली मारी थी। संदीप के 30 मिनट के सफर में सिगरेट पीना, मैट साफ करना और सिर्फ पत्नी को ही निशाना बनाना यह बातें पुलिस के गले नहीं उतरी। पुलिस का दावा है कि रजत का संदीप के घर आना-जाना था। रजत को महिला के सिर पर गोली मारने के लिए कहा गया था परंतु रजत सिर में गोली नहीं मार सका। घटना के दौरान संदीप ने रजत को गोली लोड करने में भी मदद की थी।
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन