‘डॉग’ रजिस्ट्रेशन में निकाय विभाग फेल, पालतू कुत्तों का भी ब्यौरा नहीं

  • ‘डॉग’ रजिस्ट्रेशन में निकाय विभाग फेल, पालतू कुत्तों का भी ब्यौरा नहीं
You Are HereFatehabad
Thursday, December 7, 2017-4:13 PM

चंडीगढ़(पांडेय):हरियाणा शहरी स्थानीय निकाय विभाग भले ही आवारा कुत्तों को लेकर योजना बनाने की बात कह रहा हो लेकिन उसके रिकार्ड में पालतू कुत्तों का ब्यौरा भी नहीं है, जबकि म्यूनिसिपल एक्ट के सैक्शन 311 में पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन अनिवार्य किया गया है। मसलन, घर में डॉग रखने वालों को हर साल रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है। ऐसा नहीं होने पर डॉग मालिक के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है, लेकिन प्रदेश के अधिकांश बड़े शहरों में चल रहे क्लब को इन नियमों की कतई परवाह नहीं है। लिहाजा इन्हीं क्लबों के बैनर तले हर साल डॉग शो करवाए जाते हैं जहां सरकार को चूना लगाते हुए लाखों रुपए की वसूली की जाती है। 

डॉग शो का फैशन राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के गुरुग्राम व फरीदाबाद के अलावा करनाल, यमुनानगर व अम्बाला में खूब पनप रहा है। पिछले दरवाजे से डॉग शो की परमीशन लेकर निकाय विभाग को मोटा चूना लगाया जा रहा है। घरों में रखे जाने वाले पालतू कुत्तों को लेकर वर्षों से रजिस्ट्रेशन का कानून बनाया गया है। मौजूदा समय में 1150 रुपए प्रतिवर्ष की फीस रखी गई है, लेकिन प्रदेश के अधिकांश शहरों में रजिस्टर्ड डॉग की संख्या महज कुछ सैंकड़ों में ही है। पालतू कुत्तों को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर एक संस्था चल रही है जिसकी ब्रांच जिला स्तर पर काम कर रही है। इसी क्लब के जरिए हरियाणा में भी डॉग शो का चलन बढ़ा है लेकिन अहम यह है कि इन शो में हिस्सा लेने वाले अधिकांश डॉग का कोई रजिस्ट्रेशन नहीं है।

मुख्यमंत्री को ट्वीट कर दी जानकारी
प्रदेश में डॉग रजिस्ट्रेशन के नियमों की पालना नहीं होने को लेकर मुख्यमंत्री को ट्वीट किया गया है। मुख्यमंत्री को ट्वीट पर यह बताया गया कि जब निकाय विभाग के पास कुत्तों का कोई रजिस्ट्रेशन नहीं है तो किस तरह से डॉग शो की परमिशन दी जा रही है। इस ट्वीट के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय ने निकाय विभाग के अफसरों से स्पष्टीकरण मांगा है।

बिना रजिस्ट्रेशन के नहीं होगा डॉग शो: जैन
हरियाणा की शहरी निकाय मंत्री कविता जैन ने कहा कि बिना डॉग रजिस्ट्रेशन के शो की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका कहना है कि यदि अम्बाला सरीखे किसी जिले में ऐसा हो रहा है तो अफसरों से जवाब मांगा जाएगा। मंत्री ने विभाग के निदेशक नितिन यादव से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!