बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान की जागरूकता, प्रति हजार लड़कों पर लड़कियों की जन्म संख्या 101 बढ़ी

  • बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान की जागरूकता, प्रति हजार लड़कों पर लड़कियों की जन्म संख्या 101 बढ़ी
You Are HereLatest News
Friday, January 12, 2018-3:54 PM

हिसार(ब्यूरो):बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के प्रति लोगों की भागीदारी व जागरूकता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 2014 में जब अभियान की शुरूआत हुई थी, तब जिला का लिंगानुपात 820 था। अभियान के चौथे वर्ष में प्रति हजार लड़कों पर लड़कियों की जन्म संख्या 101 की वृद्धि के साथ 921 हो गई है। यह बात मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. जितेंद्र कादियान ने अपने कार्यालय में आयोजित जिला एडवाइजरी कमेटी (पी.एन.डी.टी.) की बैठक को संबोधित करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान को और अधिक गति देकर जिला के लिंगानुपात को 950 तक ले जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। स्वास्थ्य विभाग जिला पुलिस व अन्य विभागों के साथ मिलकर लिंग जांच उपरांत अवैध रूप से गर्भपात करवाने वालों के खिलाफ सख्ती से पेश आ रहा है। गत वर्ष में अंतर जिलों व अंतर राज्यों में भी जिला प्रशासन द्वारा छापेमारी की गई। मामले में संलिप्त पाए जाने वाले व्यक्तियों के खिलाफ एफ.आई.आर. दर्ज करवाकर अदालत में मजबूत साक्ष्यों के साथ पैरवी की जा रही है, ताकि दोषी को सजा मिल सके।

उन्होंने बताया कि जिले में उपायुक्त निखिल गजराज के मार्गदर्शन में अभियान में लगातार सफलता मिल रही है। उन्होंने कहा कि यदि लड़कियों की जन्म दर में बढ़ौतरी की बात की जाए तो अकेले दिसम्बर माह में जिला का लिंगानुपात 976 रहा। इस प्रकार वर्ष 2014 के बाद से बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के सफलता स्वरूप इस दिशा में लगातार बढ़ौतरी हो रही है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2014 में 1000 लड़कों पर 820, वर्ष 2015 में 886, वर्ष 2016 में 913 व वर्ष 2017 में 921 लड़कियों ने जन्म लिया। 

जिले में 70 अल्ट्रासाऊंड केंद्र
जिला में इस समय 70 अल्ट्रासाऊंड केंद्र, 7 एम.आर.आई., 4 सी.टी. स्कैन व 4 आई.वी.एफ. केंद्र कार्यरत हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा इन केंद्रों का समय-समय पर निरीक्षण किया जाता है। यदि किसी भी केंद्र पर नियमों की अवहेलना पाई जाती है तो संचालक के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाती है। उन्होंने आम जनता से अपील करते हुए कहा कि यदि उन्हें इस प्रकार के अवैध कार्य का पता चलता है, तो वह तुरंत संबंधित अधिकारी को इसकी सूचना दे, ताकि उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सके। बैठक में जिला एडवाइजरी कमेटी की चेयरपर्सन डा. अनीता बंसल, जिला पी.एन.डी.टी. नोडल अधिकारी डा. तेजपाल शर्मा सहित पैथोलोजिस्ट डा. ज्योति, सीनियर बाल रोड विशेषज्ञ डा. रविंद्र, शकुंतला गुप्ता सहित अन्य सदस्य उपस्थित थे।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन