10 दिन बाद खुला रेयान स्कूल 24 सितंबर तक बंद, 25 से लगेंगी क्लासें

  • 10 दिन बाद खुला रेयान स्कूल 24 सितंबर तक बंद, 25 से लगेंगी क्लासें
You Are HereNational
Tuesday, September 19, 2017-1:45 PM

गुरुग्राम(रीतेश): 8 सितंबर को रेयान इंटरनेशनल स्कूल के अंदर हुई 7 साल के मासूम प्रद्युमन की हत्या के 10 दिन बाद सोमवार को रेयान स्कूल जिला प्रशासन की निगरानी में खुला लेकिन खुलते ही कुछ ही घंटे बाद फिर बंद कर दिया गया। स्कूल को दोबारा बंद करने के पीछे अभिभावकों को उनकी बच्चों की सुरक्षा की मांग और स्कूल को बच्चों के लिए अत्यधिक सुरक्षित बनाए जाने की मांग है। हालांकि जिला उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने अभिभावकों से समय जरूर मांगा है। अभिभावकों की मांग को देखते हुए आगामी 24 सितम्बर के लिए स्कूल को फिर बंद कर दिया गया है। इस सम्बंध में जिला उपायुक्त से बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन उनसे सम्पर्क नहीं हो पाया। स्कूल खुलने पर प्रद्युमन के पिता ने भी सवाल उठाए थे कि वहां पर साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ की जा सकती है। सोमवार को स्कूल खुलने पर डीसी से बच्चों के अभिभावक मिले और बताया कि हालात अभी बदले नहीं है। जो स्थिति 10 दिन पहले थी वह आज भी बनी हुई है। कई अभिभावक अपने बच्चों की टीसी भी लेने पहुंच गए। अभिभावकों ने जिला उपायुक्त से स्पष्ट कहा कि जब तक स्कूल में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध नहीं किए जाते तब तक वह अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजेंंगे। 

अभिभावकों ने जिला उपायुक्त को बताया कि स्कूल में कई सीसीटीवी सही तरह से काम नहीं कर रहे हैं। हाल मेें जो घटना हुई है, उसके बाद भी यहां सुरक्षा में कोई बदलाव नहीं किया गया है। ऐसे में डीसी ने भी अभिभावकों की मांग को मानते हुए स्कूल को 24 सितंबरर के लिए बंद कर दिया है। सूत्रों की मानें तो इस बीच यदि सीबीआई जांच के लिए यहां का दौरा करती है तो जांच में उसे किसी तरह की दिक्कत नहीं आएगी।

निधि को परिजनों ने नहीं भेजा स्कूल
रेयान स्कूल के अंदर प्रद्युमन की हत्या के 10 दिन बाद स्कूल तो जरूर खुला, लेकिन प्रद्युमन की बहन को परिजनों ने स्कूल नहीं भेजा। प्रद्युमन के पिता वरुण ठाकुर का कहना है कि उनके बेटे के हत्यारे स्कूल में हैं, ऐसे में वह अपनी बेटी को स्कूल नहीं भेज सकते। उन्होंने कहा कि वह अपना बेटा तो खो चुके हैं अब वह बेटी को वहां नहीं भेजेंगे। वहां उसे भी जान का खतरा है। उधर, आसपास के काफी संख्या में लोगों ने अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजा।

प्रद्युमन को नहीं भूल पाएंगे
रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितम्बर की सुबह दूसरी कक्षा में पढऩे वाले मासूम छात्र प्रद्युमन की गला रेत कर हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद लोगों के गुस्से को बढ़ता देख जिला प्रशासन ने स्कूल को बंद कर दिया था। 10 दिन बाद स्कूल खुलने के बाद कुछ अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल लेकर पहुंचे परन्तु अभिभावकों व बच्चों मे अभी भी डर बना दिखाई दिया। उनका कहना था कि बच्चों को स्कूल तो भेजना ही है परन्तु प्रद्युमन को नहीं भूल पाएंगे।

स्कूल में पहुंचे 400 बच्चे, कई अभिभावक लेने गए टीसी
सोहना के भौंडसी स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सोमवार को केवल 4 सौ के करीब बच्चे ही पहुंचे। कुछ बच्चों के अभिभावक बच्चों को स्कूल न लाकर केवल स्कूल मे सुरक्षा का जायजा लेने आए थे। कुछ अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल से वापस लेकर चले गए। स्कूल में पढ़ाई तो नहीं हुई परंतु जहां देखो छात्र व अभिभावक केवल प्रद्युमन की हत्या के बारे मे बातें करते नजर आ रहे थे। कुछ अभिभावक अपने बच्चों का स्कूल से स्थान्तरण सर्टिफिकेट लेने आए हुए थे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You