फोर्टिस के बाद पार्क हॉस्पिटल पर बच्चे की जान लेने का आरोप(Video)

You Are HereNational
Sunday, December 10, 2017-8:41 PM

गुडग़ांव (सतीश): अस्पतालों की लापरवाही से बच्चे की जान जाने के आरोप में फोर्टिस हॉस्पिटल के बाद गुरुग्राम के ही पार्क हॉस्पिटल सुर्खियों में आ गया है। पार्क हॉस्पिटल के डॉक्टरों पर मासूम बच्चे के इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगा है। जिला मेडिकल ऑफिसर ने इस मामले की जांच के लिए एक टीम का गठन किया है।

PunjabKesari

गुरुग्राम के बसई गांव के एक परिवार ने आरोप लगाया कि, डॉक्टरों ने इलाज में लापरवाही की है, जिससे इनका मासूम बच्चा इस दुनिया से चला गया। दरअसल, 12 वर्षीय प्रतीक जिसे हल्का बुखार और उल्टियां हो रही थी। तबियत खऱाब होने के कारण उसे 21 नवंबर की शाम को सोहना रोड स्थित पार्क हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। 

PunjabKesari

परिजनों का आरोप है कि, रात तक बच्चा ठीक था लेकिन सुबह करीब तीन बजे बच्चे को एक इंजेक्शन लगाया गया, उसके बाद बच्चे की मौत हो गई। बेरहम डॉक्टरों ने परिजनों से इलाज के नाम पर 20 हजार रूपये की मांग की। लेकिन परिजनों के पास पैसे न होने के कारण  10 हजार रूपये डाक्टरों को दिए।

PunjabKesari

बच्चे की पिता गंगा विष्णु ने बताया कि, 20 नवंबर को उनके बेटे की तबियत खराब हुई, जिसके इलाज के लिए वो सेक्टर 10 के सरकारी हॉस्पिटल में गए। सरकारी अस्पताल के डाक्टरों ने कई प्रकार का टेस्ट करवाया टेस्ट का रिपोर्ट ठीक रही। लेकिन उलटी और हल्का बुखार दस्त होने के कारण  21 नवंबर की शाम को पार्क हॉस्पिटल लेकर पहुंचे, यहां भी डाक्टरों ने कई प्रकार का टेस्ट करवाया। इस दौरान बच्चा उल्टियां कर रहा था लेकिन सुबह जैसे ही बच्चे को नींद के इंजेक्शन के साथ में मेडाजोलम इंजेक्शन लगाया। 

PunjabKesari

गंगा विष्णु ने बताया कि, इंजेक्शन लगाने के कुछ ही देर बाद बच्चे की मौत हो गई। परिजन डॉक्टर के सामने चीखते रहे चिल्लाते रहे लेकिन उस वक्त कोई डॉक्टर नहीं आया। थोड़ी देर बाद डाक्टरों ने बच्चो को मृत घाोषित कर दिया । परिजनों की शिकायत पर इस मामले की जांच के लिए एक कमिटी बनाई गई है। कमिटी निष्पक्ष जांच कर रही है कुछ दिन बाद कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद हॉस्पिटल प्रबंध या कोई भी इस लापरवाही में दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन