ठंड से ठिठुरते लोगों को प्रशासन देगा रहने को आश्रय, 5 रैन बसेरे खोले

  • ठंड से ठिठुरते लोगों को प्रशासन देगा रहने को आश्रय, 5 रैन बसेरे खोले
You Are HereLatest News
Saturday, January 6, 2018-12:45 PM

रेवाड़ी(ब्यूरो):जिलाभर में अब बाहर से आने वाले यात्रियों, झुग्गी-झोंपड़ी में रहने वाले गरीब मजदूरों व आशियाना रहित लोगों को ठंड में नहीं ठिठुरना पड़ेगा। प्रशासन द्वारा ऐसे लोगों के लिए एक विशेष अभियान चलाया जा रहा है। जिला के रेवाड़ी, बावल व धारूहेड़ा में 5 रैन बसेरे खोले गए हैं।  उपायुक्त पंकज यादव ने कहा कि जिला में सभी राष्ट्रीय राजमार्गों, स्टेट हाईवे, लिंक रोड व शहरी सड़कों पर फुटपाथ पर रात गुजारने वाले गरीब लोगों को ठंड से बचाने के लिए रैन बसेरों में सुविधायुक्त कमरों में आश्रय दिया जाएगा

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि रात 8 बजे से लेकर रात्रि 12 बजे तक सड़कों पर ठंड से ठिठुरते लोगों की तलाश करें और उन्हें तुरंत सरकारी गाडिय़ों में बिठाकर रैन बसेरों में ले जाया जाए। उन्होंने रैन बसेरों में ठहरने वाले लोगों के लिए कम्बल, रजाई आदि गर्म वस्त्रों की पूरी व्यवस्था की गई है। उन्होंने रैडक्रॉस सचिव वाजिद अली को निर्देश दिए कि जब तक कड़ाके की ठंड पड़े, तब तक वे रात्रि 11 बजे तक उपायुक्त कार्यालय को प्रतिदिन रिपोर्ट पेश करें। उपायुक्त ने नगर परिषद व नगर पालिकाओं के सचिवों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने क्षेत्रों में सभी रैन बसेरों की व्यवस्था को जांचे। अगर वहां किसी प्रकार की खामी नजर आए तो तुरंत उसे दूर करवाएं। 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन