JNU के छात्रों से मारपीट व छेड़छाड़ का मामला: शिकायत दर्ज न करने पर SI निलंबित

  • JNU के छात्रों से मारपीट व छेड़छाड़ का मामला: शिकायत दर्ज न करने पर SI निलंबित
You Are HereHaryana
Friday, August 18, 2017-5:14 PM

फरीदाबाद(अनिल राठी):फरीदाबाद के सूरजकुंड इलाके में JNU के छात्रों के साथ हुई मारपीट के मामले में सूरजकुंड पुलिस ने दिल्ली में दर्ज हुई जीरो FIR मिलने पर अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इसके साथ पुलिस कमिश्नर हनीफ कुरैशी ने सूरजकुंड थाने के सब इंस्पेक्टर सुरेश कुमार को लाइन हाजिर कर उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी है। इस पूरे मामले में उच्च अधिकारी मामले की जांच कर रहे है। घटना के बाद जेएनयू में गुस्से का माहौल है जिसके चलते पीड़ित छात्र आज पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचे और लिखित रूप में शिकायत दी। 
PunjabKesari
घटना 14 अगस्त की है। दिल्ली की जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) की एक छात्रा अपने 6 साथियों के साथ फरीदाबाद के सूरजकुंड स्थित अरावली पहाड़ों के बीच कृत्रिम झील (डेथ वैली) घूमने आई थी। रात करीब साढ़े 9 बजे लौटते वक्त छात्रा एक लड़के के साथ बाइक पर थी, जबकि उसके बाकी साथी कैब में उनकी बाइक के पीछे चल रहे थे। अचानक सुनसान जगह बाइक पर एक लड़का-लड़की को देखकर वहां पहले से मौजूद 4-5 लड़कों ने उनकी बाइक को रोक ली। इसके बाद दोनों को बेहरमी से बिना वजह पीटने लग गए और लड़की को सामूहिक बलात्कार करने की नीयत से झाड़ियों में ले जाने लगे। यहां तक कि उसके कपड़े भी फाड़ दिए। पीछे आ रहे कैब में बैठे साथी स्टूडेंट्स ने अपने दोस्तों को पिटते हुए देखा तो शोर मचाकर वहां भीड़ जोड़ ली। इसी बीच मारपीट करने वाले सभी युवक घटनास्थल से फरार हो गए।

पीड़ितों ने सूरजकुंड थाने में पहुंचकर ड्यूटी अफसर सब इंस्पेक्टर सुरेश कुमार को आपबीती बताई, लेकिन आरोप है कि पुलिस अधिकारी ने इस मसले की गंभीरता को नहीं समझा। पूछताछ के दौरान पुलिस ने उन्हें मानसिक रूप से प्रताड़ित भी किया जिसके बाद उन्होंने दिल्ली में मामला दर्ज करवाया। इसी के चलते पुलिस कमिश्नर हनीफ कुरैशी ने एसआई सुरेश कुमार को तुरंत प्रभाव से लाइन करते हुए उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए हैं। वहीं अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 323, 341, 365 और 511 के तहत मामला दर्ज कर लिया जिन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
PunjabKesari
पुलिस कमिश्नर का कहना है कि इस केस की जिम्मेदारी एनआईटी डीसीपी आस्था मोदी को सौंप दी गई तो उन्होंने महिला एसीपी पूजा डाबला को यह मामला रेफर कर दिया। आस्था मोदी का कहना है कि इस घटना को अंजाम देने वाले 4 से 5 लोग हैं, जिनमें से एक आरोपी की पहचान हो गई है। वहीं बड़खल क्राइम ब्रांच व सूरजकुंड थाने की तीन पुलिस टीमें आरोपियों को पकड़ने के लिए जगह-जगह छापेमारी कर रही हैं।


 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You