शर्मनाक: शव को बीच सड़क में छोड़ गई एम्बुलेंस, रात भर मदद की गुहार लगाती रही पत्नी

  • शर्मनाक: शव को बीच सड़क में छोड़ गई एम्बुलेंस, रात भर मदद की गुहार लगाती रही पत्नी
You Are HereHaryana
Saturday, September 9, 2017-2:15 PM

यमुनानगर(सुमित अोबरॉय): यमुनानगर में हुई घटना को देखकर लगता है कि लोगों में इंसानियत मर गई है। पीजीआई में एक व्यक्ति की मौत के बाद उसकी लाश को छोड़ने आई एम्बुलेंस ने बीच रास्ते ही शव और उसकी पत्नी को छोड़ दिया। रात भर सड़क पर पड़े शव से लिपटकर मृतक की पत्नी रोती रही लेकिन उसकी मदद के कोई नहीं आया। सुबह किसी ने पुलिस को सूचना दी तो मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को शमशान घाट भिजवाने का काम किया। 
PunjabKesari
जानकारी के अनुसार बिहार के बलिया से धर्मेंद्र नामक व्यक्ति जो कि यहीं पर एक फैक्ट्री में काम करता था। अचानक उसकी तबीयत खराब हुई तो उसकी पत्नी उसे सिविल अस्पताल लेकर गई। वहां भी उसे कोई फर्क नहीं पड़ा उसका बुखार बढ़ता गया तो सिविल अस्पताल ने उसे पीजीआई चंडीगढ़ भेज दिया। यहां धर्मेंद्र ने दम तोड़ दिया। पीजीआई से यमुनानगर लाने के लिए उन्हें एम्बुलेंस मिली लेकिन जिनकी इंसानियत भी शायद मर चुकी थी और वो रात के अंधेरे में शादीपुर रोड पर डेडबॉडी और महिला को उतार कर चले गए। महिला अपने पति के शव के साथ पूरी रात मदद की गुहार लगाती रही लेकिन किसी ने उसकी मदद नहीं की। 
PunjabKesari
सुबह जिस व्यक्ति ने मदद की उसने कहा कि वह सुबह की सैर के लिए साढे चार बजे घर से निकला था और जब 6 बजे घर वापिस जा रहा था तो उसने महिला को डेड बॉडी के पास सड़क पर रोते हुए देखा। उसने पूछा कि क्या हुआ तो इसने बताया कि एम्बुलेंस रात को डेडबॉडी के साथ ऐसे ही सड़क पर छोड़ गई है। व्यक्ति ने इधर उधर पता करके इनके रिश्तेदारों तक पहुंचा।
PunjabKesari
वहीं सुबह महिला के साथ डेडबॉडी की सूचना मिलते भी पुलिस मौके पर आई। मौके पर आए पुलिस अधिकारी अग्रेज़ सिंह से जब इस बारे पूछा गया तो उन्होंने बताया कि डेडबॉडी को संस्कार के लिए श्मशान घाट पहुंचाने का काम किया जा रहा है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You