किसान की आत्महत्या पर राजनीति शुरू, परिवार से मिलने पहुंचे कुमारी शैलजा व हुड्डा

  • किसान की आत्महत्या पर राजनीति शुरू, परिवार से मिलने पहुंचे कुमारी शैलजा व हुड्डा
You Are HereHaryana
Thursday, October 12, 2017-6:13 PM

अंबाला(कमलप्रीत सभ्रवाल): अंबाला के भडूंगपूर गांव में कुछ दिन पहले एक किसान ने कर्ज व बेटी की बीमारी से परेशान होकर आत्महत्या कर ली थी। मेवा सिंह की मौत 30 सितम्बर को हुई थी। इस मामले में अब राजनीति शुरू हो गई है। मेवा सिंह के घर नेताओं का तांता लगना शुरू हो गया है। आज राज्यसभा सांसद कुमारी शैलजा व पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा अलग-अलग मृतक किसान मेवा सिंह के परिवार को सांत्वना देने पहुंचे। इस दौरान पूर्व मंत्री निर्मल सिंह व पूर्व प्रदेशाध्यक्ष फूल चंद मुलाना भी मौजूद रहे। किसान की मौत पर दुख प्रकट करने पहुंचे सैलजा व हुड्डा का जब सामना हुआ तो दोनों ने एक दूसरे से बात नहीं की। 
PunjabKesari
जब निर्मल सिंह ने सैलजा से बोलने के लिए कहा तो शैलजा ने हुड्डा से पहले बोलने का इशारा किया। हुड्डा ने भी इशारों में ही जवाब दिया। जैसे ही शैलजा का भाषण समाप्त हुआ तो वह बाहर आ गई तब भी दोनों ने एक दूसरे को सिर्फ इशारों में ही जवाब दिया। इस दौरान शैलजा ने केंद्र सरकार पर बोलते हुए कहा कि केंद्र सरकार की नीतियों के कारण किसान परेशान है जिसके चलते उनको इस तरह के कदम उठाने पड़ रहे हैं। कुमारी शैलजा ने मृतक किसान के परिवार पर जो कर्ज है उसे सरकार से माफ करने की मांग की।
PunjabKesari
जब कांग्रेस सत्ता में थी तब से हुड्डा और सैलजा एक दूसरे के धुर विरोधी हैं। दोनों में CM की कुर्सी को लेकर खींचातान रही जो अब भी जारी है। इस दौरान हुड्डा ने कहा कि सरकार किसानों का कर्ज माफ करने का काम करे हमने भी किया था। मृतक किसान के परिवार को मुआवजा देकर उसका कर्ज भी माफ किया जाए।

पूर्व प्रदेशाध्यक्ष फूल चंद मुलाना जब भाषण देने लगे तो उन्होंने मृतक किसान का नाम ही गलत बोल दिया जिसके बाद भीड़ ने उनकी गलती को ठीक करवाया। कांग्रेस की राजनीति पर कैबिनेट मंत्री अनिल विज ने कहा कि किसी की मौत होना काफी दुख की बात है। उसकी मौत पर राजनिति करना और भी दुर्भाग्यपूर्ण है। आपको दुख है तो जरूर जताइए मगर अपनी राजनीति को मत खड़ा कीजिए।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!