हरियाणा में अब मौत के लिए भी 'आधार कार्ड' जरूरी, बिना आधार के नहीं बनेगा डैथ सर्टिफिकेट

  • हरियाणा में अब मौत के लिए भी 'आधार कार्ड' जरूरी, बिना आधार के नहीं बनेगा डैथ सर्टिफिकेट
You Are HereHaryana
Tuesday, September 19, 2017-6:27 PM

चंडीगढ़(उमंग श्योराण): हरियाणा के मुख्य सचिव श्री डी एस ढ़ेसी ने शिक्षा एवं महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों को स्कूलों एवं आंगनबाडी केंद्रों में आने वाले बच्चों के आधार पंजीकरण 45 दिनों के अंदर पूरे करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा प्रदेश के सभी बैंक खातों को मोबाइल नंबर के साथ जोड़ने के भी निर्देश दिए। यह निर्देश मुख्य सचिव ने आज यहां भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई)की नवीं समीक्षा बैठक में दिए।

श्री ढेसी ने बताया गया कि हरियाणा में मृत्यु पंजीकरण के लिए आधार क्रियान्वित किया जाएगा। हरियाणा में बिना आधार कार्ड के डैथ सर्टिफिकेट नहीं बन पाएगा। स्कूल जाने वाले बच्चों में 37,62,602 के आधार पंजीकरण हो गए हैं जो कि लगभग 91 प्रतिशत है। बैठक में बताया गया कि सीनियर सकेंडरी स्कूल के 3,74,268 विद्यार्थियों का आधार पंजीकरण किया गया है इसी प्रकार हाई स्कूल के कुल 719858 विद्यार्थियो का आधार नंबर उपलब्ध है। उन्हें बताया गया कि मिडिल स्कूल के 10,51,575 एवं प्राइमरी स्कूल के 16,16,901 बच्चों के आधार पंजीकरण उपलब्ध हैं।

बैठक में बताया गया कि प्रदेश में उच्चतर शिक्षा, तकनीकी शिक्षा ,आई टी आई एवं अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों को दिए जाने वाली सभी स्कालरशिप आधार के साथ जोड़ी गई हैं तथा सभी विद्यार्थियों को प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण माध्यम से खातों में भेजा जा रहा है। इसके अलावा विद्यार्थियों के एडमिशन भी 100 प्रतिशत अॉनलाइन किए गए हैं। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में राशन वितरण के लिए पीडीएस प्रणाली चलाई जा रही है जो कि आधार के साथ जोड़ी गई है। इस प्रणाली के क्रियान्वयन में हरियाणा अग्रणी स्थान पर हैं।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You