इस अवैध कारोबार को रोकने में प्रशासन पूरी तरह से विफल

  • इस अवैध कारोबार को रोकने में प्रशासन पूरी तरह से विफल
You Are HereHaryana
Sunday, September 3, 2017-1:51 PM

सांपला : कस्बे में आबकारी व कराधान विभाग द्वारा कहने को तो सरकारी शराब की दुकानों को परमिट दे रखा है लेकिन बगैर परमिट के सांपला कस्बे में 1 या 2 नहीं, बल्कि 12 ऐसे ठेकेदार हैं जो फोन घुमाते ही घर पर शराब पहुंचा देते हैं। प्रतिदिन लाखों रुपए की बेची जाने वाली शराब के इतने बड़े पैमाने पर हो रहे इस अवैध कारोबार को रोकने में प्रशासन पूरी तरह से विफल हो रहा है। पान की दुकान से लेकर करियाना दुकान, चाय दुकान और अन्य जगहों पर धड़ल्ले से अंग्रेजी शराब की बिक्री होने की चर्चा है। परिणाम स्वरूप इसका अवैध कारोबार करने वालों का आंकड़ा दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। शराब की बिक्री पुलिस की ओर नकारात्मक इशारा कर रही है। पिछले 3-4 महीने से लगातार बिक रही शराब के काले कारोबार में पुलिस कुछ नहीं कर रही है। सांपला व आसपास के गांव में करीब 80 फीसदी शराब ठेकेदारों द्वारा अवैध रूप से बिना रोक-टोक बेची जा रही है। गांवों की स्थिति यह है कि गांव वालों को पानी की तलाश में मीलों भटकना पड़ता है लेकिन मदिरा प्रेमी को गांव में बिना मशक्कत करे शराब उपलब्ध हो जाती है।

एक लाइसैंस पर गांव-गांव में संचालित दुकानें
वहीं अवैध रूप से एक लाइसैंस पर गांव-गांव में संचालित की जा रही शराब की दुकानों ने गांवों का माहौल पूरी तरह से दूषित कर दिया है। गांवों में शराब के कारण दिनोंदिन अपराधों में वृद्धि हो रही है, साथ ही आसानी से शराब उपलब्ध हो जाने से भोले-भाले ग्रामीण शराब की लत में जकड़ते जा रहे हैं। शायद ही कोई ऐसा गांव होगा, जहां अवैध रूप से शराब नहीं बेची जा रही है। ऐसा नहीं कि पुलिस इस कारोबार से अनजान हो, बल्कि सारी जानकारियां होते हुए भी मोटे सुविधा शुल्क के एवज में इस कारोबार को अनदेखा कर रही है।

दिन-दिहाड़े होता है परिवहन
गांव-गांव तक शराब पहुंचाने के लिए ठेकेदार द्वारा पुलिस की साठ-गांठ से जीपों से दिन-दिहाड़े परिवहन करवाया जा रहा है। गांव में शराब बेचने वाले एजैंटों को शराब कम्पनी के लोगों द्वारा जीपों के माध्यम से घर पर ही माल पहुंचाया जाता है। इस अवैध शराब का परिवहन बिना भय के पुलिस थाने के सामने से ही किया जा रहा है। सांपला कस्बे में एक सफेद रंग व काले रंग की एक्टिवा स्कूटी से अंग्रेजी शराब की डिलीवरी की जा रही है। 8-10 बोतल झोले में रखकर यह सप्लाई की जाती है।

ठेकेदार ने गांवों व ईंट भट्ठों पर रखवाए फ्रिज 
सांपला क्षेत्र में शराब का कारोबार इस तरह से प्रगति कर रहा है कि लाइसैंसी दुकान ठेकेदार ने अपने एजैंटों के माध्यम से गांव के बस स्टैंड और ईंट भट्ठों पर खुली करियाने की दुकानों पर फ्रिज की सुविधा देकर शराब बिक्री का काम शुरू करवा रखा है जिससे ग्रामीण क्षेत्र के लोग परेशान है।

जल्द होगी कार्रवाई : डी.एस.पी.
जब इस मामले को लेकर डी.एस.पी. विजय कुमार का कहना है कि मामला अभी संज्ञान में आया है। जल्द ही कड़ी कार्रवाई की जाएगी। जो भी अधिकारी व कर्मचारी कार्रवाई को लेकर कोताही करेगा। उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। जल्द ही अवैध शराब बेचने वालों पर कड़ी कार्रवाई होगी। मामला आबकारी व कराधान विभाग के संज्ञान में भी लाया जाएगा।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You