नौकरी दिलवाने के नाम पर की 45 लाख रुपए की ठगी, 3 आरोपी गिरफ्तार

  • नौकरी दिलवाने के नाम पर की 45 लाख रुपए की ठगी, 3 आरोपी गिरफ्तार
You Are HereHaryana
Tuesday, September 5, 2017-2:18 PM

सोनीपत:रेलवे में सलाहकार के पद पर नौकरी दिलवाने के नाम पर 45 लाख रुपए की ठगी के मामले में पुलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपी दिल्ली के हैदरपुर का मुकेश, आसौदा कलां का शीशपाल व झज्जर के छारा गांव की सोनिया है। तीनों निजी सचिव, चालक व चपड़ासी के पद पर थे जोकि मुख्यारोपी के पास केस ले आते थे। जिन्हें वह ठगी का शिकार बनाकर इनका हिस्सा इन्हें देने के साथ ही नौकरी भी दे रखी थी।

पकड़े गए आरोपी लेकर आते थे केस
गिरफ्तार आरोपी मुकेश व शीशपाल ने बताया कि वह कुलदीप के लिए केस लेकर आते थे। उन्होंने अपने कई जानकारों के पैसे भी नौकरी दिलवाने के लिए आरोपी कुलदीप को दिलवा रखे हैं। इसमें उन्हें कमीशन दिया जाता था।

मुख्यारोपी की तलाश जारी:आई.ओ.
जांच अधिकारी देवेंद्र कुमार ने बताया कि नौकरी दिलवाने के नाम पर ठगी करने के मामले में 3 आरोपियों को काबू किया है। उनसे मामले से जुड़े साक्ष्य जुटाए गए हैं। इस मामले में मुख्यारोपी कुलदीप की तलाश की जा रही है।

यह था मामला
नई दिल्ली के गांव समालका निवासी मोहित भारद्वाज ने 21 जुलाई को कुंडली थाने में शिकायत दी थी कि दिसम्बर, 2016 में उसके जानकार ने उसे सुशांत सिटी, कुंडली निवासी कुलदीप से यह कहकर मिलवाया कि कुलदीप रेलवे में बड़े पद पर कार्यरत है और नौकरी दिलवाता है। उसने कुलदीप के घर जाकर नौकरी की बात की। उस समय कुलदीप की निजी सचिव सोनिया, चपड़ासी शीशपाल, चालक मुकेश व दूधनाथ मौजूद थे। कुलदीप ने उसे रेलवे में सलाहकार की नौकरी दिलवाने की बात कही और कहा इसके बदले में वह 12 लाख रुपए लेगा। पटौदी निवासी सतीश ने उसे 12 लाख रुपए दिए थे जिससे उसका यकीन पक्का हो गया। बाद में उसने अपने व जानकारों को नौकरी दिलवाने के लिए कुल 45 लाख रुपए कुलदीप को दिए। कुलदीप ने कहा था कि वह एक साथ 98 बच्चों का ग्रुप बनाकर उन्हें नौकरी दिलवाएगा। इससे पहले ट्रेनिंग दी जाएगी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You